शहडोल: गेहूं की फसल बिछी, सरसो व अलसी को भी पहुंचा नुकसान

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, शहडोल । पिछले तीन दिनों से अंचल का मौसम बिगड़ा हुआ है। रविवार को दोपहर बाद शुरू हुआ बारिश का दौर देर रात तक जारी रहा। कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि भी हुई। इससे फसलों को काफी नुकसान हुआ है। वहीं सोमवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। सुबह करीब साढ़े ८ तक तो छह मीटर भी दृश्यता नहीं है। कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। हर तरफ सफेदी नजर आ रही थी। 
   मौसम विभाग के अनुसार सुबह ६ से ७ बजे के बीच दृश्यता ५ मीटर से भी कम थी। वहीं सुबह करीब साढ़े ८ बजे तक घना कोहरा छाया हुआ था। ९ से कोहरा छंटना शुरू हुआ। इसके बाद सुबह करीब १० बजे सूरज निकला। इस सीजन में चौथी बार नगर में घना कोहरा छाया है। इससे पहले ११ फरवरी को और उसके पहले दो बार जनवरी में नगर में कोहरा छाया था। वहीं फरवरी माह में ४ पांच बार बारिश हुई है। मौसम में अचानक कुए बदलाव के कारण हल्की ठंडक बढ़ गई है। घर के भीतर अभी भी ठंड का एहसास हो रहा है। सोमवार को नगर में अधिकतम तापमान ३२.३ डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान १३.७ डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।
मौसम का असर फसलों पर 
अचानक हुई बारिश और ओलावृष्टि से फसलें खराब हुई हैं। ओलावृष्टि से जहां आधा दर्जन से अधिक गांवों में गेहूं की फसल बिछ गई है। वहीं सरसों, अलसी के फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचा है, क्योंंकि दोनों ही फसलों में फूल लग रहे थे। तेज बारिश और ओला गिरने के कारण फसलों के फूल झड़ गए हैं। वहीं कुछ इलाकों में ओलावृष्टि से चने की फसल भी खराब हुई। कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक गुरप्रीत गांधी ने बताया कि फसलों को बारिश की जरूरत थी। बारिश से कुछ नुकसान नहीं हुआ है, लेकिन ओलावृष्टि फूल वाली फसलों सरसो, अलसी को नुकसान पहुंचा है। इसी तरह जहां ओला गिरा चना और गेहूं की फसल बिछ गई है। टमाटर, बैगन आदि सब्जियों को भी नुकसान पहुंचा है।
इन इलाकों में हुआ ज्यादा नुकसान
जानकारी के अनुसार गोहपारू जनपद और बुढ़ार जनपद पंचायत के ग्रामीण इलाकों में ओलावृष्टि से सबसे ज्यादा फसलें प्रभावित हुई हैं। देवगई, लखबरिया, कोइलहा, कुदरी, बंडी, रसमोहनी, चुहिरी, घोघरी आदि गांवों में बारिश के साथ-साथ ओलावृष्टि भी हुई है। दूसरी ओर जिला मुख्यालय से लगे गांवों में मौसम का ज्यादा असर नहीं दिखा है। कृषक देवगई निवासी सुरेश जायसवाल, अमित, अर्जुन, रमेश आदि ने बताया कि गेहूं की फसल बिछ गई है। अब मौसम खुलने का इंतजार है। वहीं चने की फसल को ज्यादा नुकसान पहुंचा है। उन्होंने बताया कि देवगई सहित आसपास के गांवों में रविवार शाम को ओलावृष्टि हुई है। कंचे के आकार के ओले गिरे हैं।
२७ फरवरी को हुई बारिश (मिमी में)
वर्षामापी केंद्र    बारिश
सोहागपुर        ९.०
बुढ़ार        २.०
गोहपारू        १५
जैतपुर         १४
चन्नौड़ी        ६.०
ब्यौहारी        ०.०
जयसिंहनगर        ०.०
कुल वर्षा        ४६
औसत वर्षा        ६.६
इससे पहले इस माह ४ फरवरी को कुल ७ मिमी, १० फरवरी को १९ मिमी, २५ फरवरी को ६ मिमी और २६ फरवरी को कुल ११.५ मिमी बारिश दर्ज की गई थी।