दैनिक भास्कर हिंदी: गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद जागा महिला आयोग, वडेट्टीवार ने कहा - सीआईडी जांच हो

August 30th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महानगर में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई लड़की की औरंगाबाद में इलाज के दौरान मौत के बाद राज्य महिला आयोग ने मामले को बेहद गंभीरता से लिया है। महिला आयोग ने मामले की छानबीन कर रही चूनाभट्टी पुलिस से मामले की जांच में अब तक हुई प्रगति और गिरफ्तारियों से जुड़ी रिपोर्ट शनिवार तक सौंपने को कहा है। महिला आयोग ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज करने और मनोधैर्य योजना के तहत पीड़ित के परिवार को आर्थिक मदद देने के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजने को भी कहा है। पीड़िता का परिवार मूल रूप से जालना जिले के घनसावंगी तालुका का रहने वाला है। लड़की के दो भाई मुंबई के चेंबूर इलाके में रहते हैं। पुलिस में दर्ज शिकायत के मुताबिक लड़की कुछ महीनों पहले अपने भाइयों के पास आई हुई थी। इसी दौरान 7 जुलाई को वह अपनी एक सहेली के साथ किसी जन्मदिन पार्टी में गई थी। वापसी के दौरान चार लोगों ने उसके साथ बलात्कार किया। लड़की ने उस वक्त इसकी जानकारी अपने भाइयों को नहीं दी। इसी बीच उसकी तबीयत बिगड़ी तो भाइयों ने अपने पिता को फोनकर मामले की जानकारी दी। लड़की को इलाज के लिए औरंगाबाद के घाटी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार का खुलासा किया। इसके बाद औरंगाबाद पुलिस ने जीरो एफआईआर दर्ज कर  मामला आगे की जांच के लिए चूनाभट्टी पुलिस के हवाले कर दिया। लेकिन तबीयत ज्यादा खराब होने के चलते मुंबई पुलिस लड़की का बयान नहीं दर्ज कर पाई और जांच लगभग ठप पड़ी रही। बीते गुरुवार को औरंगाबाद के एक अस्पताल में पीड़िता की मौत हो गई। 

आरोपियों का कोई सुराग नहीं

जोन छह के डीसीपी शशिकुमार मीना ने बताया कि मामले में पीड़िता के परिवार की ओर से जो जानकारी मिली थी उसके आधार पर जांच आगे बढ़ाने की कोशिश हुई लेकिन छानबीन में बताई गई तारीख और दूसरे तथ्यों का मिलान नहीं हो पा रहा है। फिर भी हम आरोपियों तक पहुंचने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।   

राकांपा का मोर्चा

बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद शुक्रवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने चेंबूर ले लालडोंगर से चेंबूर पुलिस स्टेशन तक मोर्चा निकाला। राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने इस मामले की छानबीन के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने की मांग की। सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए राकांपा कार्यकर्ताओं ने दोषियों को फांसी दिए जाने की मांग की। सुप्रिया सुले ने कहा कि वे पीड़िता के भाई को साथ लेकर राज्य के पुलिस महानिदेशक से मिलेंगी और जब तक पीड़िता को न्याय नहीं मिलता वे चुप नहीं बैठेंगी।     

चेंबूर गैंर रेप की हो सीआईडी जांचः वडेट्टीवार, विपक्ष के नेता ने लगाया निष्क्रियता का आरोप  

चेंबूर सामूहिक बलात्कार मामले में एक महीने बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। स्थानीय पुलिस जांच में असफल साबित हुई है इसलिए इसकी छानबीन सीआईडी के जरिए कराई जानी चाहिए। विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने यह मांग की। उन्होंने कहा कि पुलिस का आरोपियों तक न पहुंच पाना उसकी असंवेदनशीलता और निष्क्रियता को दिखाता है। वडेट्टीवार ने सवाल किया कि क्या पुलिस किसी को बचाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में महिलाएं और लड़कियां सुरक्षित नहीं हैं। पुणे में एक लड़की से बलात्कार के दोषी को फांसी हुई लेकिन उस पर अमल नहीं हुआ। नागपुर और पुणे में दिनदहाड़े आपराधिक वारदातों को अंजाम दिया जा रहा है। वडेट्टीवार ने कहा कि चेंबूर में इतना गंभीर अपराध होने के बाद भी मुख्यमंत्री अपनी प्रचार यात्रा में व्यस्त हैं।  

 

खबरें और भी हैं...