दैनिक भास्कर हिंदी: महिलाओं की शराबियों को चेतावनी, शराब पी तो लगेगा जुर्माना

June 22nd, 2018

डिजिटल डेस्क, सिवनी/छपारा। शराब के कारण खराब हो रहे माहौल से छुटकारा दिलाने के लिए छपारा के जोगीवाड़ा गांव की महिलाओं ने बड़ा कदम उठाया है। गांव की महिलाओं ने तय किया है कि यदि कोई शराब बेचते या पीते हुए पकड़ा गया तो उसकी जमकर खैर ली जाएगी। शराब बनाने या बेचने का काम करते पाया गया तो 5100 और शराब पीकर माहौल खराब करने वाले पर 1100 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इस पैसे का उपयोग समाज विकास में किया जाएगा। महिलाओं का कहना है कि लगातार ग्रामीण क्षेत्र में शराब की लत में आकर अपना परिवार बर्बाद कर रहे हैं। नशे की लत में आकर घर में लड़ाई झगड़ा करते हैं इतना ही नहीं घर में रखा खाने पीने का सामान अनाज भी बेच देते हैं जिससे ग्राम की महिलाएं त्रस्त हो गई हैं।

4 माह पूर्व गांव घूमकर लिया फैसला
महिलाओं ने बताया कि उन्होंने 4 माह पूर्व पूरे वार्ड में घूमकर गांव में शराब बेचने और शराब पीने पर रोक लगाने का निर्णय लिया है। उसके अनुसार गांव में यदि कोई भी व्यक्ति शराब बेचता है या शराब पीकर गांव में माहौल खराब करता है, उसके खिलाफ पंचायत बैठाई जाएगी। उस निर्णय के मुताबिक कारवाई की जाएगी। दंड से लिए गए पैसे सामाजिक कार्य में इस्तेमाल किया जाएगा। 4 महीने पहले लिए गए निर्णय में सफलता मिली है।

चार लोगों पर लग चुका है जुर्माना
अब तक दो पुरुषों और दो महिलाओं के ऊपर1100 रुपए का दंड लगाया जा चुका है। जिसके बाद से वार्ड में कोई भी शराब पीकर माहौल खराब नहीं कर रहा है। इसी के चलते जोगीवाड़ा ग्राम के दूसरे एक और टोला में शुक्रवार को महिलाओं ने रैली निकालकर शराबबंदी के नारे लगाए और महिलाओं ने कहा शराब के मटके हम तोड़ेंगे। इन नारों के साथ महिलाओं ने शराब बेचने और पीने वालों को चेतावनी दी है यदि अब गांव में किसी ने भी शराब का सेवन किया।और किसी भी तरह का माहौल खराब किया तो उनकी खैर नहीं होगी।

सभी लोगों से आगे आने की अपील
गांव की महिला लक्ष्मी परते का कहना है शराबबंदी को लेकर सरकार को भी सख्त कदम उठाने चाहिए। सरकार भले ही गांव के लोगों को सुधारने के लिए और भरण पोषण के लिए एक रुपए किलो अनाज और बच्चों के लिए मुफ्त में साइकिल गणवेश अन्य सामग्री दे रही है, लेकिन शराबबंदी के लिए कोई सख्त कदम नहीं उठा रही है। इससे गांव में पुरुष वर्ग के लोग ज्यादातर शराब की लत में आकर परिवार बर्बाद कर रहे हैं। सरकार से मिलने वाले खाद्यान्न को भी बेच कर शराब गटक लेते हैं और अपनी पत्नी के साथ मारपीट करते हैं इन घटनाओं को रोकने के लिए सरकार को शराबबंदी के लिए ठोस कदम उठाए जाना चाहिए।

इनका कहना है
महिलाओं का शराब बंदी को लेकर उठाया गया कदम सराहनीय है। पंचायत की ओर से पूरा सहयोग किया जा रहा है।
धनीराम उईके, सरपंच, ग्राम पंचायत जोगीवाड़ा