दैनिक भास्कर हिंदी: बसपा में असंतोष दूर करने की कवायद, वर्धा व नागपुर क्षेत्र में पदाधिकारियों के कार्यों की होगी समीक्षा

June 26th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। प्रदेश बसपा में बड़े फेरबदल के बाद कार्यकर्ताओं के असंतोष को दूर करने की कवायद शुरु हो गई है। बसपा अध्यक्ष मायावती ने नये प्रदेश प्रभारी रामअचल राजभर को राज्य का दौरा कर संगठन की रिपोर्ट तैयार करने को कहा है। राजभर के साथ मायावती के अन्य करीबी पार्टी कार्यकर्ता भी परोक्ष अपरोक्ष तौर पर रहेंगे। इस कड़ी में वर्धा व नागपुर में भी पदाधिकारियों के कार्यों की समीक्षा होगी। पार्टी सूत्र के अनुसार बीते सप्ताह लखनऊ में हुई कार्यकारिणी बैठक में क्षेत्रीय स्तर से विविध शिकायतें की गई थी। उनमें से कुछ पर नहीं निर्णय हो पाया है। ऐसे भी पदाधिकारी हैं जो गुटबाजी को बढ़ावा देते हुए पार्टी में बने हुए हैं। उनके बारे में निर्णय लेने के लिए दौरा कार्यक्रम के माध्यम से सबूत जुटाए जा रहे है। वर्धा व नागपुर जोन में 29 व 30 जून को संगठन की बैठक होगी। इससे पहले 22 व 23 जून को जोन निहाय बैठक तय की गई थी। लेकिन उसे रद्द कर दिया गया। प्रदेश प्रभारी राजभर पहले भी राज्य में संगठन की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। खासकर नागपुर विभाग की जानकारी उन्हें हैं। लिहाजा नए पदाधिकारियों की नियुक्ति के संबंध में उनका निर्णय पार्टी प्रमुख को भी मान्य होगा। इसके अलावा विधानसभा चुनाव की तैयारी के संबंध में भी चर्चा होगी। 2004 में जब राजभर प्रदेश प्रभारी थे तब विदर्भ में बसपा की स्थिति काफी अच्छी थी। नागपुर , रामटेक, भंडारा, चंद्रपुर लोकसभा क्षेत्र में तो बसपा उम्मीवार को एक लाख के करीब ये उससे अधिक मत मिले थे। उस समय विधानसभा चुनाव में भी बसपा को अच्छा खासा आकर्षण था। अन्य प्रमुख दल के नेता भी बसपा में प्रवेश करने की बात करने लगे थे। 

तमाम स्थिति को देखते हुए राजभर विधानसभा चुनाव की तैयारी पर चर्चा करेंगे। ऐसे विधानसभा क्षेत्र चिन्हित किए जाएंगे जहां बसपा का जनाधार बढ़ने की संभावना हो। सामाजिक स्थिति, लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के पहले पदाधिकारियों के अनुमान, फिलहाल की स्थिति, उम्मीदवार को मिले मतदान , पदाधिकारियों के काम की सूची के साथ अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। बसपा अध्यक्ष मायावती के निर्देश के अनुसार पदाधिकारियों को संगठन कार्य की जिम्मेदारी दी जाएगी। गौरतलब है कि अमरावती में बसपा कार्यकर्ताओं की मारपीट का मामला अभी पूरी तरह से शांत नहीं हुआ है। नागपुर व वर्धा में भी संदेह जताया जा रहा है कि पार्टी नेताओं की सभाओं में असंतोष सामने आ सकता है। आर्थिक लेन देन के आरोपों के साथ कुछ पदाधिकारियों को हटाया गया है। प्रदेश प्रभारी संदीप ताजने को पार्टी से बाहर कर दिया गया है। दूसरे प्रभारी प्रमोद रैना को महाराष्ट्र से बाहर कर दिया गया है। नागपुर की कार्यकारिणी के प्रमुख पदाधिकारी भी हटा दिए गए है।

बैठकों का आयोजन

वर्धा जोन की बैठक 29 जून को वर्धा में होगी। चंद्रपुर, गडचिरोली, यवतमाल , हिंगोली, लातूर व नांदेड जिले के पदाधिकारी शामिल रहेंगे। प्रदेश प्रभारी वीरसिंह , गौरीप्रसाद उपासक, प्रदेश अध्यक्ष सुरेश साखरे, सुनील डोंगरे उपस्थित रहें। 30 जून को नागपुर जोन की बैठक नागपुर में होगी। उसमें नागपुर , भंडारा, गोंदिया, अमरावती, अकोला, वाशिम व बुलढाणा के पदाधिकारी रहेंगे। प्रमुख पदाधिकारियों में कृष्ष्णा बेले, मंगेश ठाकरे, जीतेंद्र म्हैसकर, भाऊ गोंडाणे, सुधाकर मोहोड,दीपक पाटील शामिल है।