हादसा: पुसद में बाढ़ में युवक बहा, दिग्रस में मकान पर गिरी गाज

पुसद में बाढ़ में युवक बहा, दिग्रस में मकान पर गिरी गाज
  • मकान पर गिरी गाज
  • बाढ़ में युवक बहा
  • दोनों तहसीलों में मूसलाधार बारिश

डिजिटल डेस्क, पुसद/ दिग्रस (यवतमाल). जिले में सोमवार की रात से मूसलाधार बारिश होती रही। मंगलवार तड़के 6 बजे से दिग्रस और पुसद में मूसलाधार बारिश शुरू होने से यहां शाला, महाविद्यालय आदि को छुट्टी घोषित की गयी। पुसद के धनसल गांव की पुलिया से बह रहे पानी में मंगलवार दोपहर एक व्यक्ति बहकर चला गया। बहे व्यक्ति का नाम तहसील के धनसल निवासी बालू भीमराव पानपट्टे (40) बताया जाता है। समाचार लिखे जाने तक उसका पता नहीं चल पाया था। इस गांव की पुलिया से बाढ़ का पानी बह रहा था। इसी समय यह व्यक्ति रास्ता पार करने का प्रयास कर रहा था। बाढ़ के तेज बहाव में वह बह गया।

इधर दिग्रस के संभाजी नगर स्थित मल्लिका अश्फाक पटेल के घर पर मंगलवार सुबह गाज गिरी। इसमें घर का बड़ा नुकसान हुआ है। गनीमत रही कि कोई जनहानि नहीं हुई। इस मूसलाधार बारिश के बाद दिग्रस की धावंडा और पुसद की पुस नदी उफान पर है। बारिश ऐसे ही लगातार होती रही तो हालात गंभीर हो सकते हैं। मंगलवार तड़के पुसद एसडीओ ने बारिश की जानकारी जिलाधिकारी डा. पंकज आशिया को दी। इसके बाद उन्होंने शाला महाविद्यालय को छुट्टी घोषित की। पुसद में दोपहर एक बजे तक मूसलाधार बारिश होने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। लगातार हो रही बारिश से खेतों में जलजमाव होने से फसलों को नुकसान होने की संभावना किसानों ने जताई है। तहसील के वनवरला, शेलु खुर्द, पिंपलगांव, जांब बाजार, वडगांव, पारडी, निम्बी, लोनी, अरेगांव, भोजला, वलतुर, वारुड, मोहा, येनेरदा, कोपरा, चिखली कैंप परिसर में फसलों का नुकसान होने की जानकारी किसानों ने दी है।

सात मकान ढह गए

यवतमाल जिले की 4 तहसीलों में घर ढहने की घटनाएं सामने आई हैं। इनमें यवतमाल और कलंब में 1-1, घाटंजी-वणी में 2-2 उसी प्रकार कलंब में 1 घर पूरी तरह ढह गया है। इसी के साथ अन्य तहसीलों में भी अनेक घरों को नुकसान पहुंचा है। बीते 24 घंटे में यवतमाल जिले में 23.90 मिमी बारिश दर्ज की गई है। यह जानकारी जिला आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से संभाग के आयुक्त को भेजी रिपोर्ट में दी गई है।

नाले में आयी बाढ़ में बहा बैल

समुद्रपुर के समीप ताड़गांव में सोमवार को हुई मूसलाधार बारिश से गांव समीप बहनेवाले नाले में बाढ़ आ गई। इस बाढ़ में विजय चौधरी के मालकियत का एक बैल बह गया। घटना सोमवार शाम की है। इसमें ऐन खेती के मौसम में किसान का 75 हजार रुपए का नुकसान हुआ। किसान विजय चौधरी बैलजोड़ी खेत से घर लेकर जा रहे थे। परंतु अचानक नाले में बाढ़ आ गई। उक्त समय एक बैल बाढ़ के पानी के प्रवाह में बह गया। लेकिन दूसरा बैल बच गया। जानकारी मिलते ही पटवारी प्रेम नंदनवार, सरपंच विनायक श्रीरामे ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा किया। पशुवैद्यकीय अधिकारी डाॅ. योगेश रार्घोते ने शवविच्छेदन किया। किसान को मुआवजा देने की मांग की जा रही है।


Created On :   27 Sep 2023 1:18 PM GMT

Tags

और पढ़ेंकम पढ़ें
Next Story