दैनिक भास्कर हिंदी: Chennai test : 420 रनों के लक्ष्य के जवाब में भारत 39/1, जीत के लिए आखिरी दिन बनाने होंगे 381 रन; गिल और पुजारा नॉटआउट

February 8th, 2021

हाईलाइट

  • भारत को रिकॉर्ड टारगेट चेज करना होगा
  • 300 विकेट लेने वाले भारत के छठे गेंदबाज बने इशांत

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। इंग्लैंड ने एमए चिदम्बरम स्टेडियम में जारी पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन सोमवार को भारत के सामने जीत के लिए 420 रनों का विशाल लक्ष्य रखा, जिसके जवाब में भारत ने दिन का खेल समाप्त होने तक अपनी दूसरी पारी में एक विकेट पर 39 रन बना लिए हैं। दिन का खेल खत्म होने पर सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल 15, जबकि चेतेश्वर पुजारा 12 रन बनाकर खेल रहे थे। 

भारत को मैच जीतने के लिए अभी 381 रन और बनाने है जबकि उसके पास एक दिन और 9 विकेट शेष है। इंग्लैंड ने अपनी पहली पारी में 578 रन का स्कोर बनाया था और उसने भारत को उसकी अपनी पहली पारी में 337 रनों पर ऑलआउट करके 241 रनों की बढ़त हासिल कर ली थी। इंग्लैंड दूसरी पारी में 178 रन ही बना सकी। टूटती पिच पर 90 ओवरों में 381 रन बना पाना बेहद मुश्किल होगा, इसलिए अगर मैच ड्रॉ भी होता है तो यह मेजबान टीम के लिए अच्छा नतीजा होगा।

टेस्ट के चौथे दिन 297 रन बने और 15 विकेट गिरे। इसमें भारत के 5 विकेट और इंग्लैंड के 10 विकेट शामिल हैं। इंग्लिश टीम दूसरी पारी में 178 रन पर ऑलआउट हो गई। रविचंद्रन अश्विन ने 6 विकेट लिए। उन्होंने रॉरी बर्न्स, डॉमनिक सिबली, बेन स्टोक्स, डॉम बेस, जोफ्रा आर्चर और जेम्स एंडरसन को आउट किया। उनके अलावा शाहबाज नदीम ने 2 विकेट लिए। वहीं, इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह को 1-1 विकेट मिला। इंग्लैंड ने पहली पारी में 578 रन बनाए थे। जबकि, टीम इंडिया ने पहली पारी में 337 रन बनाए थे।

भारत को रिकॉर्ड टारगेट चेज करना होगा
भारत को यह टेस्ट जीतने के लिए रिकॉर्ड टारगेट चेज करना होगा। सबसे बड़ा टारगेट चेज करने का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के नाम है। उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2003 में 418 रन का टारगेट चेज किया था। भारत ने टेस्ट में सबसे बड़ा लक्ष्य 406 रन का हासिल किया है। टीम ने 1976 में वेस्टइंडीज के खिलाफ यह रिकॉर्ड बनाया था। भारत में चौथी पारी में सबसे बड़े टारगेट को चेज करने का रिकॉर्ड 387 रन का है। टीम इंडिया ने ही 2008 में इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई में 4 विकेट पर 387 रन बनाकर मैच जीता था।

फिर नहीं चले रोहित, भारत की खराब शुरुआत
इंग्लैंड से मिले 420 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत सही नहीं रही और सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (12) एक बार फिर से असफल रहे। रोहित टीम के मात्र 25 के स्कोर पर जैक लीच की गेंद पर बोल्ड हो गए। उनके आउट होने के बाद आए चेतेश्वर पुजारा ने गिल के साथ मिलकर स्टंप्स तक टीम को और कोई झटका नहीं लगने दिया।

अश्विन के दम पर इंग्लैंड की दूसरी पारी में 178 रन पर सिमटी
इससे पहले, रविचंद्रन अश्विन (61 रन पर छह विकेट) की बेहतरीन गेंदबाजी के दम पर भारत ने इंग्लैंड की दूसरी पारी में 178 रन पर समेट दिया। इंग्लैंड के लिए दूसरी पारी में कप्तान जोए रूट ने सर्वाधिक 40, ओली पोप ने 28, डॉमिनीक बेस ने 25, डेनियल लॉरेंस ने 18 और डॉमिनीक सिब्ले ने 16 रन बनाए। भारत के लिए अश्विन के छह विकेटों के अलावा शाहबाज नदीम ने दो और इशांत शर्मा तथा जसप्रीत बुमराह ने एक-एक विकेट लिया।

300 विकेट लेने वाले भारत के छठे गेंदबाज बने इशांत
इशांत के टेस्ट करियर में 300 विकेट पूरे हो गए। वे ऐसा करने वाले भारत के छठे गेंदबाज बने। इशांत, कपिल देव और जहीर खान के बाद 300 विकेट लेने वाले भारत के तीसरे तेज गेंदबाज भी हैं।

गेंदबाज विकेट बॉलिंग स्टाइल
अनिल कुंबले 619 स्पिनर
कपिल देव 434 तेज गेंदबाज
हरभजन सिंह 417 स्पिनर
रविचंद्रन अश्विन 386 स्पिनर
जहीर खान 311 तेज गेंदबाज
इशांत शर्मा 300 तेज गेंदबाज

अश्विन और सुंदर के बीच 80 रन की पार्टनरशिप
वहीं, भारत ने अपने तीसरे दिन (रविवार) के स्कोर छह विकेट पर 257 रन से आगे खेलना शुरू किया। सुंदर ने 33 और अश्विन ने अपनी पारी को आठ रन से आगे बढ़ाया। दोंनो बल्लेबाजों ने सातवें विकेट के लिए 80 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी कर भारत को संकट से बाहर निकालने की कोशिश की। अश्विन टीम के 305 के स्कोर पर सातवें बल्लेबाज के रूप में आउट हुए। उन्होंने 91 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्के के सहारे 31 रन बनाए। इसके बाद भारत ने 312 के स्कोर पर शाहबाज नदीम (0) के रूप में अपना आठवां, इशांत शर्मा (4) के रूप में अपना नौवां और जसप्रीत बुमराह (0) के रूप में अपना 10वां विकेट गंवाया।

हालांकि अपने करियर का मात्र दूसरा टेस्ट खेल रहे सुंदर ने भारतीय पारी को एक छोर से संभाले रखा और अपने करियर का लगातार दूसरा अर्धशतक पूरा किया। सुंदर के अर्धशतक की बदौलत भारत 300 रनों के पार तक पहुंचने में सफल रहा। सुंदर ने 138 गेंदों पर 12 चौकों और दो छक्कों की मदद से 85 की रनों की नाबाद पारी खेली।

उनके अलावा पुजारा ने 143 गेंदों पर 11 चौके और पंत ने 88 गेंदों पर नौ चौके और पांच छक्के लगाए। भारत तीसरे दिन एक समय 73 रन तक रोहित शर्मा (6), शुभमन गिल (29), कप्तान विराट कोहली (11), अजिंक्य रहाणे (1) के रूप में अपने चार विकेट गंवा चुका था। लेकिन पुजारा और पंत ने तीसरे दिन पांचवें विकेट के लिए 119 रनों की शतकीय साझेदारी कर भारत को संकट से बाहर निकालने में मदद की थी। इंग्लैंड की ओर से डॉमिनिक बेस ने सर्वाधिक चार विकेट लिए जबकि जोफ्रा आर्चर, जेम्स एंडरसन और जैक लीच को दो-दो सफलता मिली।

खबरें और भी हैं...