comScore

B'DAY SPCL: 31वें जन्मदिन पर यह हैं 'किंग कोहली' के 31 यादगार रिकॉर्ड

B'DAY SPCL: 31वें जन्मदिन पर यह हैं 'किंग कोहली' के 31 यादगार रिकॉर्ड

हाईलाइट

  • भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली आज अपना 31वां जन्मदिन मना रहे हैं
  • विराट के 31वें जन्मदिन के अवसर पर उनके 31 यादगार रिकॉर्ड्स

डिजिटल डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के तीनों फॉर्मेट के कप्तान विराट कोहली आज अपना 31वां जन्मदिन मना रहे हैं। 5 नवंबर 1988 को जन्मे विराट कोहली का नाम आज दुनिया के महानतम क्रिकेटरों में शुमार किया जाता है। उन्हें अपनी बल्लेबाजी के कारण 'किंग कोहली' और 'रन मशीन' जैसे नामों से भी जाना जाता है। विराट कोहली ने बहुत कम वक्त में क्रिकेट की दुनिया में अपना एक अलग ही मुकाम बना लिया है। आज हम आपको विराट के 31वें जन्मदिन के अवसर पर उनके 31 यादगार रिकॉर्ड्स के बारे में बताने जा रहे हैं। 

विराट के 31वें जन्मदिन पर 31 यादगार रिकॉर्ड

1. विराट कोहली की कप्तानी में भारत की U-19 टीम ने 2008 में विश्व कप जीता था।

2. विराट कोहली देवधर ट्रॉफी के फाइनल में एक टीम की कप्तानी करने वाले दूसरे सबसे युवा क्रिकेटर हैं। 2009-10 में हुई देवधर ट्रॉफी के फाइनल में उनकी उम्र 21 वर्ष और 124 दिन थी।

3. विराट कोहली एक दशक में 20,000 इंटरनेशनल रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज हैं। 31 वर्षीय ने यह उपलब्धि भारत के पिछले दौरे के दौरान वेस्टइंडीज में हासिल की, जो इस साल की शुरुआत में हुआ था। मेजबानों के खिलाफ तीसरे वनडे के दौरान, भारतीय कप्तान ने इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए 99 गेंदों पर नाबाद 114 रन बनाए।

4. भारतीय कप्तान सबसे तेज 10,000 वनडे रन पूरे करने वाले बल्लेबाज भी हैं। कोहली ने 2018 में यह रिकॉर्ड अपने नाम किया था। तब उन्होंने वेस्ट वेस्टइंडीज के खिलाफ नाबाद 157 रन बनाए थे। इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए विराट ने 205 पारियां लीं, जबकि सचिन तेंदुलकर ने 10,000 वनडे रन तक पहुंचने के लिए 259 पारियां ली थीं।

5. विराट कोहली ने एक कैलेंडर इयर में सबसे तेजी से 1000 वनडे रन बनाने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है। इस मुकाम को हासिल करने के लिए कोहली ने 11 पारियां लीं। इस मामले में उन्होंने हाशिम अमला को पीछे छोड़ दिया। अमला ने एक कैलेंडर इयर में 15 पारियों में 1000 वनडे रन बनाए थे। 

6. कोहली एक साल में सभी आईसीसी वार्षिक व्यक्तिगत पुरस्कार जीतने वाले एकमात्र क्रिकेटर हैं। 2018 में अपने शानदार प्रदर्शन के बाद, कोहली को द सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी, आईसीसी टेस्ट और वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

7. भारतीय कप्तान दो टीमों के खिलाफ लगातार तीन-तीन शतक जड़ने वाले एक मात्र खिलाड़ी भी हैं। कोहली ने फरवरी 2012 से जुलाई 2012 के बीच श्रीलंका के खिलाफ 133 *, 108 और 106 रन बनाए। 2018 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ 140, 157 * और 107 रन बनाए।

8. कोहली एक कप्तान के रूप में एक कैलेंडर इयर में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी भी हैं। उन्होंने साल 2017 में 26 वनडे मैचों में 75 से अधिक की औसत से बल्लेबाजी करते हुए 1460 रन बनाए। पिछला रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग के नाम था, जिनके नाम 2007 में 1,424 रन थे।

9. विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में बाहर होने के बावजूद, विराट कोहली शोपीस इवेंट में लगातार पांच अर्द्धशतक बनाने वाले पहले कप्तान बने। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और वेस्ट इंडीज के खिलाफ 82, 77, 67 और 72 रन बनाए।

10. विराट कोहली लगातार तीन कैलेंडर इयर में 1000 रन बनाने वाले पहले टेस्ट कप्तान और पहले भारतीय भी हैं। कोहली ने 2016 में 1215 रन, 2017 में 1059 रन और 2018 में 1322 रन बनाए थे।

11. विराट कोहली के नाम टेस्ट में कप्तान के रूप में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने का रिकॉर्ड भी है। 

12. विराट कोहली IPL के किसी एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी भी हैं। उन्होंने IPL 2016 में 973 रन बनाए थे। 

13. कोहली एक कप्तान के रूप में सबसे तेजी से 3000 वनडे रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए उन्होंने 49 पारियां लीं और इस मामले में अपनी RCB टीम के साथी खिलाड़ी एबी डिविलियर्स और पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी को पीछे छोड़ दिया।

14. एक कैलेंडर इयर में सबसे अधिक शतक बनाने का रिकॉर्ड भी विराट कोहली के नाम है। कोहली ने 2017 में 11 शतक बनाए और इस मामले में रिकी पोंटिंग और ग्रीम स्मिथ को पीछे छोड़ा। जिन्होंने एक साल में 9 शतक बनाए थे।

15. विराट कोहली के पास वेस्टइंडीज में एक कप्तान द्वारा सर्वोच्च एकदिवसीय व्यक्तिगत स्कोर बनाने का रिकॉर्ड भी है। इस साल की शुरुआत में वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में विराट ने दूसरे वनडे में 125 गेंदों में 120 रन बनाए।

16. कोहली साल 2018 में 4000 टेस्ट रन बनाने वाले सबसे तेज कप्तान बने। उन्होंने अपनी 65वीं पारी में यह रिकॉर्ड अपने नाम किया। पिछला रिकॉर्ड ब्रायन लारा के पास था, जिन्होंने 71 पारियां लीं थी।

17. कोहली के पास घरेलू सरजमीं पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे ज्यादा वनडे शतक लगाने का रिकॉर्ड भी है। ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ आठ शतकों में से उन्होंने पांच 18 वनडे में घर पर ही जड़े हैं।

18. कोहली 30 और 35 वनडे शतकों तक पहुंचने वाले सबसे तेज क्रिकेटर हैं। उन्होंने दोनों मौकों पर दिग्गज सचिन तेंदुलकर को पिछे छोड़ा। कोहली ने 186 पारियों में पहला मुकाम हासिल किया, सचिन ने 267 पारियां लीं थीं। कोहली का 35वां वनडे शतक उनकी 200वीं पारी में आया था।

19. कोहली के पास T-20 में चेज करते हुए सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड भी है। उन्होंने 2017 में 1016 रन बनाए और इस मामले में ब्रेंडन मैकुलम के 1006 रनों को पीछे छोड़ा। 

20. कोहली कई वनडे मैचों में लगातार तीन शतक लगाने वाले पहले कप्तान हैं। वह यह रिकॉर्ड हासिल करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी भी हैं।

21. 350 और उससे अधिक के लक्ष्य का पीछा करते हुए, कोहली अपने सर्वोच्च प्रदर्शन में रहे हैं। भारत अब तक तीन मौकों पर 350 से ऊपर के स्कोर का पीछा करने में सफल रहा है और भारतीय कप्तान ने तीनों अवसर पर शतक बनाया है।

22. कोहली ने एक बार 2011 में T20 मैच की पहली गेंद पर इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन को आउट कर दिया था। गेंद लेग साइड में जा रही थी, लेकिन धोनी के ग्लववर्क के कारण पीटरसन उस समय क्रीज तक पहुंचने में नाकाम रहे। जब स्कोरबोर्ड था (ENG: 0/1 in 0.0 overs)।

23. कोहली ने बांग्लादेश के खिलाफ 2011 में विश्व कप डेब्यू किया था। वह विश्व कप डेब्यू मैच में शतक जड़ने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी भी बने थे। 

24. विराट कोहली विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ शतक बनाने वाले पहले भारतीय हैं। उन्होंने 2015 विश्व कप के पहले मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 126 गेंदों में 107 रन बनाए थे।

25. वह लगातार दो विश्व कप (2011 और 2015) के शुरुआती मैचों में शतक जड़ने वाले एकमात्र भारतीय हैं।

26. विराट कोहली एक द्विपक्षीय वनडे सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ीयों की लिस्ट में भी टॉप पर हैं। उन्होंने फरवरी 2018 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 6 मैचों में 558 रन बनाए थे।

27. कोहली एक द्विपक्षीय वनडे सीरीज में 500 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज भी हैं।

28. कोहली के पास आईपीएल के एक सीजन में सर्वाधिक शतक बनाने का रिकॉर्ड भी है। RCB के कप्तान ने 2016 में चार शतक जडे़ थे।

29. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हाल ही में समाप्त हुई टेस्ट सीरीज के दौरान, विराट कोहली भारतीय कप्तान के रूप में मोहम्मद अजहरुद्दीन से अधिक संख्या में फॉलो-ऑन लागू करने वाले कप्तान भी बने। कोहली ने 8 वीं बार भारत के कप्तान के रूप में फॉलो-ऑन लागू किया, अजहरुद्दीन ने 7 बार किया था।

30. कोहली सबसे ज्यादा बार 150+ स्कोर करने वाले कप्तान भी हैं। वह कप्तान के रूप में 9 बार 150 रन के आंकड़े को पार कर चुके हैं। इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज सर डोनाल्ड ब्रैडमैन ने कप्तान के रूप में 8 बार 150 रन के आंकड़े को पार किया था।

31. विराट कोहली एक भारतीय द्वारा टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक दोहरे शतक लगाने वाले खिलाड़ी भी बने। उन्होंने इस मामले में वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ दिया है। कोहली के अब 81 टेस्ट में 7 दोहरे शतक हैं।

विराट का क्रिकेट करियर 

विराट कोहली ने अब तक 82 टेस्ट मैचों में 54.77 की औसत से 7066 रन बनाए हैं। टेस्ट क्रिकेट में विराट के नाम 26 शतक दर्ज हैं। वहीं, 239 वनडे में विराट अब तक 60.31 की औसत से 11520 रन बना चुके हैं। वनडे क्रिकेट में विराट ने 43 शतक जड़े हैं। टी-20 क्रिकेट की बात करें तो विराट ने 72 टी-20 मैचों में 50.00 की औसत से 2450 रन बनाए हैं।

कमेंट करें
hzMCk
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।