comScore

क्रिकेट: रोहित ने कहा-लॉकडाउन के बाद गेंदबाजों की तुलना में बल्लेबाजों को लय हासिल करने में लगेगा ज्यादा समय


हाईलाइट

  • रोहित शर्मा ने कहा कि, लॉकडाउन के बाद बल्लेबाजों की मैदान पर वापसी आसान नहीं होगी
  • रोहित ने तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लाइव चैट के दौरान यह बात कही
  • रोहित ने कहा- बल्लेबाजों को पुरानी लय और टाइमिंग हासिल करने में कम से कम डेढ़ महीना लगेगा

डिजिटल डेस्क। कोरोनावायरस लॉकडाउन के चलते दुनियाभर के सभी खिलाड़ी घरों में अपनी फैमली के साथ समय बिता रहे हैं। भारत में भी लॉकडाउन के चलते सभी स्पोर्ट्स के खिलाड़ी प्रैक्टिस और ट्रेनिंग नहीं कर पा रहे हैं। इस पर भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा कि, लॉकडाउन के बाद बल्लेबाजों की मैदान पर वापसी आसान नहीं होगी। रोहित ने तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लाइव चैट के दौरान यह बात कही है।

रोहित ने शमी से कहा - गेंदबाजों की तुलना में बल्लेबाजों के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी करना ज्यादा चुनौतीपूर्ण होगा। उन्होंने कहा कि, बल्लेबाजों को पुरानी लय और टाइमिंग हासिल करने में कम से कम डेढ़ महीना लगेगा। हैंड आई कोऑर्डिनेशन बल्लेबाजी का अहम पहलू होता है। ऐसे में बल्लेबाज को गेंद की रफ्तार के साथ तालमेल बैठाने में वक्त लगेगा। क्योंकि आपको ऐसे टॉप गेंदबाजों का सामना करना होगा, जो 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं।

तीन महीने से बैट को हाथ तक नहीं लगाया है
विस्फोटक सलामी बल्लेबाज रोहित ने महसूस किया कि, बल्लेबाजों को दोबारा अपनी लय में आने के लिए प्रैक्टिस के लिए गेंदबाजों की तुलना में ज्यादा समय चाहिए होता है। रोहित ने कहा-उच्चतम स्तर पर किसी भी प्रकार के क्रिकेट से पहले, हमें अपनी लय वापस पाने के लिए कम से कम एक महीने तक प्रैक्टिस करने की जरूरत होगी। उन्होंने कहा- तीन महीने से ज्यादा समय हो गया है हम मैदान से दूर हैं। इस दौरान हमने बैट को हाथ तक नहीं लगाया है। 

बल्लेबाजों को लय हासिल करने में ज्यादा समय लगेगा
रोहित का मानना है कि, गेंदबाजों की तुलना में बल्लेबाजों को लय में आने में अधिक समय लगेगा। तेज गेंदबाज होने के बाद भी शमी ने रोहित की बात पर सहमति जताई। शमी ने कहा, तेज गेंदबाज लॉकडाउन के इस समय में भी अपने फिजिकल वर्कआउट कर रहे हैं। हम ट्रेडमिल पर दौड़ रहे हैं जो हमारे निचले शरीर को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है। उन्होंने कहा- अब लॉकडाउन के बाद जब क्रिकेट दोबारा शुरू होगा, तो हमें बस गेंद छोड़ते वक्त कलाई की सही पोजीशन पर ही काम करना होगा और इसे हासिल करने में 10 से 15 दिन का ही वक्त लगेगा।

लॉकडाउन के बाद NCA में एक महीने का ट्रेनिंग कैम्प होना चाहिए
प्रतिस्पर्धी मैच के लिए मैदान पर कदम रखने से पहले शमी प्रैक्टिस के लिए कम से कम एक महीने का समय मिलने की उम्मीद कर रहे हैं। शमी ने कहा कि, लॉकडाउन के बाद नेशनल क्रिकेट एकेडमी (NCA) में एक महीने का ट्रेनिंग कैम्प होना चाहिए। इस बारे में मैंने आशीष भाई(आशीष नेहरा) से भी बात की थी के जैसे ही लॉकडाउन खत्म हो, हम एनसीए में ट्रेनिंग कैम्प शुरू करें। इससे हमे लय हासिल करने में तो मदद मिलेगी ही और यह भी पता चल जाएगा कि, किसी गेंदबाज को चोट या कोई अन्य समस्या है। 

कमेंट करें
HDavY