दैनिक भास्कर हिंदी: क्रिकेट: युवराज सिंह ने बताया, टीम इंडिया के यह दो खिलाड़ी तोड़ सकते हैं टी-20 में फास्टेस्ट फिफ्टी का रिकॉर्ड

May 14th, 2020

हाईलाइट

  • युवराज ने 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप में सबसे तेज अर्धशतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया था
  • युवराज सिंह ने कहा, उनका यह रिकॉर्ड सिर्फ हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल में से ही कोई तोड़ सकता है

डिजिटल डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह को एक बार फिर अपनी रिकॉर्ड अर्धशतकीय पारी याद आई। युवराज ने 2007 में हुए पहले टी-20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के खिलाफ सबसे तेज अर्धशतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया था। युवराज ने इस मैच में टी-20 में 12 गेंद पर सबसे तेज अर्धशतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया था। इसी मैच में युवराज ने तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में 6 गेंद पर 6 छक्के भी लगाए थे। युवराज ने इस मैच में 16 गेंदों में 3 चौकों और 7 छक्कों की मदद से 58 रनों की शानदार पारी खेली थी। इस मैच के बाद भारतीय टीम ने फाइनल में पाकिस्तान को हराकर पहली बार टी-20 वर्ल्ड कप का खिताब जीता था।

क्रिकेट वेबसाइट क्रिकइंफो पर लाइव चैटिंग के दौरान युवराज ने कहा कि, सबसे तेज अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड सिर्फ हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल में से ही कोई तोड़ सकता है। उन्होंने कहा कि, यह रिकॉर्ड तोड़ने की क्षमता वेस्टइंडीज के क्रिस गेल और साउथ अफ्रीका के एबी डिविलियर्स में भी थी। लेकिन डिविलियर्स संन्यास ले चुके हैं और गेल कभी भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह सकते हैं। 

राहुल में वह क्षमता है कि मेरे रिकॉर्ड को तोड़ सकें
हाल ही में इंग्लैंड के गेंदबाज जोफ्रा आर्चर ने केएल राहुल से पूछा था कि, युवराज सबसे तेज अर्धशतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड कौन तोड़ सकता है?। इसके जवाब में राहुल ने अपना ही नाम लिया था। वहीं अब युवराज ने कहा, राहुल में वह क्षमता है कि मेरे रिकॉर्ड को तोड़ सकें। उन्होंने आईपीएल में 14 और 15 गेंद में अर्धशतक लगाया भी है। लेकिन बता दूं कि, इंटरनेशनल क्रिकेट और आईपीएल दोनों ही अलग हैं। दोनों की परिस्थितियां भी बेहद अलग होती हैं।

पंड्या में भी सबसे तेज फिफ्टी का रिकॉर्ड तोड़ने की क्षमता
युवराज ने कहा, मेरा मानना है कि पंड्या में भी सबसे तेज फिफ्टी का रिकॉर्ड तोड़ने की क्षमता है। उनका खेल बहुत शानदार और एक अलग ही प्रकार का है। वह बहुत मेहनती और अच्छा इंसान है। उसकी गेंद को हिट करने की काबिलियत बेहतरीन है। रिकॉर्ड तोड़ने के लिए आपको सिंगल-डबल नहीं लेने होंगे। आपको हर गेंद पर बाउंड्री चाहिए रहेगी। ऐसे में पंड्या के पास यह क्षमता है। उसमें एक वर्ल्ड क्लास क्रिकेटर बनने के गुण हैं। पंड्या भविष्य में भारत के लिए महान ऑलराउंडर बन सकता है। बता दें कि, युवराज सिंह ने अपने करियर में टीम इंडिया के लिए 40 टेस्ट में 1900, 304 वनडे में 8701 और 58 टी-20 में 1177 रन बनाए हैं। उनके नाम आईपीएल के 132 मैच में 2750 रन हैं।

खबरें और भी हैं...