दैनिक भास्कर हिंदी: नसीरुद्दीन शाह ने अपने बयान पर दी सफाई, कहा भारत मेरा भी मुल्क है

December 21st, 2018

हाईलाइट

  • नसीरुद्दीन शाह के विवादास्पद बयान को लेकर उनकी आलोचना हो रही है।
  • शाह ने अपनी सफाई में कहा है कि भारत मेरा भी मुल्क है।
  • शाह ने बयान में कहा था कि हिंदुस्तान में अब डर लगता है।
  • बयान के बाद शाह को परिवार समेत पाकिस्तान जाने की सलाह दी जा रही है।

डिजिटल डेस्क, मुंबई । मशहूर फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के विवादास्पद बयान को लेकर उनकी आलोचना हो रही है। बयान पर मचते बवाल के बाद शाह ने अपनी सफाई में कहा है कि पता नहीं मुझे क्यों गद्दार कहा जा रहा है। मैंने तो एक चिंतित भारतीय के तौर पर अपनी बात कही थी। उन्होंने कहा कि भारत मेरा भी मुल्क है, मैंने जो कहा सही कहा, आलोचना तो सहनी ही पड़ेगी। गौरतलब है कि शाह ने बयान में कहा था कि हिंदुस्तान में अब डर लगता है। शाह के बयान को लेकर काफी विवाद हो रहा और उन्हें परिवार समेत पाकिस्तान जाने की सलाह दी जा रही है। 

 

वीडियो के जरिए जाहिर किया था अपना डर

सोशल मीडिया पर शाह का एक वीडियो जारी कर उन्होंने अपना डर और चिंता को जाहिर किया था। वीडियो में नसीरुद्दीन अपने बच्चों को लेकर चिंतित नजर आ रहे हैं। वीडियो में शाह ने कहा, मुझे फिक्र होती है अपनी औलाद के बारे में सोचकर। मुझे इस बात का डर लगता है कि कहीं मेरे बच्चों को भीड़ ने घेर लिया और उनसे पूछा कि तुम हिंदू हो या मुसलमान? मेरे बच्चों के पास इसका कोई जवाब नहीं होगा। क्योंकि मैंने मेरे बच्चों को मजहबी तालीम नहीं दी है।अच्छाई और बुराई का मजहब से कोई लेना-देना नहीं है। मुझे डर भी लगता है और गुस्सा भी आता है। ये हमारा घर है हमें कौन निकाल सकता है।   

 

दरअसल शाह ने ये वीडियो उन घटनाओं के बाद बनाया था जिनमें गौ हत्या के नाम पर भीड़ एक इंसान की जान ले लेती है। शाह ने भीड़ के जरिए की गई हिंसा का हवाला देते हुए कहा था कि एक गाय की मौत को एक पुलिस अधिकारी की हत्या से ज्यादा तवज्जो दी जा रही है। बता दें कि तीन दिसंबर को दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं सहित एक भीड़ ने बुलंदशहर में कथित गौवध को लेकर एक पुलिस स्टेशन पर हमला कर दिया था। इस घटना में एक पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह और एक अन्य व्यक्ति मारे गए थे।

 

अभिनेता ने कहा कि 'जहर पहले ही फैल चुका है' और अब इसे रोक पाना मुश्किल होगा। अभिनेता ने कहा, 'मुझे बचपन में धार्मिक शिक्षा मिली थी। रत्ना (अभिनेता की पत्नी) एक प्रगतिशील घर की थी और उसे ऐसा कुछ नहीं मिला और हमने तय किया कि हम अपने बच्चों को धार्मिक शिक्षा नहीं देंगे क्योंकि मेरा मानना है कि किसी के अच्छे होने या बुरे होने का धर्म से कोई लेना देना नहीं है।'

 

शाह का अपने बच्चों के लिए भयभीत होना 2015 में आमिर खान द्वारा असहिष्णुता पर दिए गए बयान की याद दिलाता है। खान की इस टिप्पणी के बाद विवाद पैदा हो गया था।