दैनिक भास्कर हिंदी: जानिए, कोरोना काल में कैसे कर रही अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा ट्रांसजेंडर और विधवाओं की मदद ?

May 16th, 2021

डिजिटल डेस्क,मुंबई। देशभर में लोग कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहे है। ऐसे में कई फिल्मी सितारें मदद जरुरतमंदों की मदद की लिए सामने आ रहे है। इस लिस्ट में अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा का नाम भी शामिल हो गया है। टिस्का कोविड महामारी से प्रभावित हुए ट्रांसजेंडर और विधवाओं की मदद करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं। इन समूहों को संकट से निपटने में मदद करने के लिए एक्ट्रेस ने शेफ विकास खन्ना के साथ ' हैशटैग इंडिया फॉर मदर्स' नाम से एक पहल की शुरूआत की है।

क्या कहा टिस्का ने

  • टिस्का ने आईएएनएस को दिए इंटरव्यू में बताया कि, जब विकास खन्ना और उनकी टीम ने भारत में महामारी के कारण अपनी आजीविका खो चुके विधवाओं और ट्रांसजेंडरों का समर्थन करने के लिए हैशटैग इंडिया फॉर मदर्स के इस विशिष्ट अभियान के लिए मुझसे संपर्क किया, तो मैंने फौरन हां कर दिया। इनमें कई माताएं इस महामारी के दौरान कई बेरोजगार और यहां तक कि बेघर हो गई हैं।
  • टिस्का आगे कहती हैं कि, इसी तरह, ट्रांसजेंडर समुदाय को भी जरूरत है, कई लोग वर्तमान में बेरोजगार हैं और समर्थन की सख्त जरूरत है।
  • बता दें कि, अभिनेत्री ने पिछले साल एट टिस्का टेबल नाम से एक पहल शुरू की थी, जिसे उन्होंने इस मुश्किल समय में लोगों की मदद करने के लिए फिर से तैयार किया।
  • एक्ट्रेस कहती हैं कि, टिस्का की मेज पर एक मासिक तालिका है जहां हम प्रतिभाशाली दिमागों के बीच बातचीत को सरल बनाने के लिए रचनात्मक दिमाग लाते हैं । मैं पिछले साल से ऐसा कर रही हूं। हमने महामारी के लिए तालिका को फिर से बनाया है, यह देखते हुए कि यह वही है जो अभी सबसे ज्यादा जरूरी है। आसपास की स्थिति खराब है और लोगों की जरूरतें हर दिन बदल रही हैं।
  • टिस्का ने कहा कि, अप्रैल के मध्य में स्थिति भयानक थी और लगभग 10 मई तक ऐसी ही रही। इसके केंद्र बदलते रहे, पहले यह मुंबई और दिल्ली, फिर कोलकाता और बैंगलोर थे। अब यूपी दयनीय स्थिति में है। समय की जरूरत बदल रही है। यह शुरू करने के लिए ऑक्सीजन और आईसीयू बेड थे, फिर प्लाज्मा और अब यह ईसीएमओ मशीन है और ब्लैक फंगस के लिए एम्फोटेरिसिन दवा की अभी सबसे ज्यादा जरूरत है।

 

खबरें और भी हैं...