comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कटरीना संग फिर दिल दिया गल्ला करेंगे सलमान, भारत में प्रियंका की जगह लेंगी कटरीना 

July 31st, 2018 18:17 IST

डिजिटल डेस्क, मुंबई। सलमान और कटरीना की वाकई 'अजब प्रेम की गजब ही कहानी' है, जब कटरीना किसी मंझधार में होती है, तो सलमान उन्हें अपना सहारा देने के लिए पहुंच जाते हैं, और जब सलमान किसी परेशानी में होते हैं तो कटरीना भी उनकी हेल्प करने में कभी पीछे नहीं रहती हैं और इसका लेटेस्ट एग्जाम्पल हैं कैट का सल्लु की अपकमिंग फिल्म भारत को हां करना।

जी हां जबसे प्रियंका ने फिल्म 'भारत' छोड़ी थी तभी से इस फिल्म के मेकर्स, सलमान के अपोजिट किसी बड़ी हीरोइन को कास्ट करना चाहते थे, कभी कहा गया की फिल्म में कटरीना नजर आएंगी तो, कभी खबरें आईं की दीपिका पादुकोण को फिल्म के लिए अप्रोच किया किया गया है। इतना ही नहीं भारत के लिए जैकलीन और अनुष्का का नाम भी सामने आय़ा था। लेकिन फाइनली ये सस्पेंस खत्म हुआ सलमान की खास दोस्त और एक्स गर्लफ्रेंड कटरीना पर पहुंचकर। 

जो अब मोस्ट अवेटेड फिल्म 'भारत' में ना सिर्फ प्रियंका की जगह लेंगी बल्कि सलमान के साथ एक बार फिर रोमांस भी फरमाएंगी। इस बात का खुलासा खुद भाईजान ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए किया है, और बाकायदा स्वैग के साथ कटरीना का स्वागत भी किया। 
 



अब ये तो सब जानते ही हैं कि दोनों सालों से एक-दूसरे के काफी क्लोज हैं. यहां तक कि रणबीर से रिलेशनशिप के दौरान भी सलमान-कैटरीना की दोस्ती खत्म नहीं हुई. और शायद ये इनके मजबूत रिश्ते का ही सबूत है कि दो दिन के अंदर ही कैटरीना ने 'भारत' में काम करने के लिए तैयार हो गई हैं, और जिसकी शूटिंग वे सितम्बर से शुरू कर सकती हैं

Image result for priyanka chopra


प्रियंका की वजह से कैट को मिला रोल 

फिल्म भारत के जरिए सलमान-प्रियंका करीब 1 दशक बाद साथ काम करने जा रहे थे. लेकिन प्रियंका ने निक जोनस से शादी की खातिर ऐन मौके पर फिल्म से किनारा कर लिया, और ये रोल कटरीना की झोली में आ गयी

Image result for salman katrina


सलमान संग हिट है जोड़ी 

हांलाकि इस रिप्लेसमेंट के बाद भी फिल्म भारत की पूरी टीम बेहद खुश है, और शायद खुशी की वजह है सलमान और कटरीना की सिजलिंग केमिस्ट्री। 

जिसे हर कोई ना सिर्फ बार-बार देखने को बेताब रहता है, बल्कि दिल खोलकर इस जोड़ी पर अपना प्यार भी बरसाता है....एक था टाइगर, टाइजर जिंदा है, पार्टनर और अजब प्रेम की गजब कहानी ऑडियंस से मिले इसी बात का सबूत है

कमेंट करें
OFwiD
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।