आस्था गिल : गायिका ने रैपर बाली के साथ साझा किए संगीत की दुनिया के अनुभव

July 22nd, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। गायिका आस्था गिल ने रैपर बाली के साथ उनकी नई पेशकश बलमा के लिए हाथ मिलाया है। इसके साथ ही दोनों ने संगीत को लेकर अपना अपना अनुभव साझा किया।

आईएएनएस के साथ बातचीत में, दो संगीत कलाकारों ने भारत में स्वतंत्र संगीत स्थान, दिल्ली और मुंबई में हिप-हॉप संगीत के बीच सांस्कृतिक अंतर, उनके नए गीत और इंटरनेट के युग में उनके काम के दबाव के बारे में बात की।

1990 के दशक में, इंडी पॉप संगीत ने चार्ट पर राज किया। हालांकि, 2000 के दशक की शुरूआत में डॉट कॉम बबल के फटने से यह कम हो गया, मुख्यधारा के फिल्म संगीत ने इंडी की जगह ले ली और डेढ़ दशक तक भारत में संगीत के परि²श्य को परिभाषित किया। डिजिटल के उदय के साथ, चीजें 2015 के आसपास कहीं से स्वतंत्र संगीत के पक्ष में आ गईं। बाली की राय में, स्वतंत्र संगीत कलाकारों के लिए लॉकडाउन वास्तविक गेम-चेंजर था।

रैपर बाली ने कहा, लोग अपने घरों की सीमा में बैठे थे, उन्हें अचानक इंडी संगीत में मनोरंजन और सामग्री की खपत का एक नया अवसर मिला। उस समय फिल्में निर्माण में नहीं थीं। इसलिए, बहुत सारे बड़े लेबल ने भी नए कलाकारों का समर्थन करना शुरू कर दिया और इस तरह महामारी के युग से शुरू होने वाले स्वतंत्र संगीत के लिए परि²श्य को आकार दिया।

आस्था ने कहा, मुझे लगता है कि थोड़ा क्रेडिट हमें भी मिलना चाहिए। लेकिन एक गंभीर नोट पर, मैं धन्य महसूस करती हूं इस युग में काम करने और मुख्यधारा और इंडी म्यूजिक स्पेस दोनों में काम करने के लिए।

आस्था को दुख होता है कि, कला अब एक व्यवसाय बन गई है।

हालांकि, आस्थी कहती हैं कि, कलाकारों को अपनी कलात्मक अखंडता को बरकरार रखने की जरूरत है। उन्होंने आईएएनएस से कहा, व्यावसायिक और व्यावसायिक नौकरी प्रबंधकों के ऊपर छोड़ देना चाहिए।

बलमा जो ऑडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर स्ट्रीम करने के लिए उपलब्ध है, वार्नर म्यूजिक इंडिया के लेबल के तहत जारी किया गया है।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.