दैनिक भास्कर हिंदी: सबके पास अपना घर हो, रोजगार हो, बिजली हो, यही रामराज्य है : अयोध्या से योगी

October 18th, 2017

डिजिटल डेस्क, अयोध्या। दिवाली का त्यौहार भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण की घर वापसी के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। 14 साल के वनवास के बाद भागवान राम, सीता और लक्ष्मण इसी दिन अयोध्या लौटे थे। तब पूरी अयोध्या नगरी को दीपों से रोशन कर उनका स्वागत किया गया था। एक बार फिर दिवाली के मौके पर अयोध्या नगरी ठीक वैसे ही जगमगा रही है। दरअसल यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बार छोटी दिवाली अयोध्या में मना रहे हैं। इस मौके पर पूरी अयोध्या नगरी को सजा दिया गया है।


जिस तरह श्री राम 14 साल के वनवास के बाद पुष्पक विमान से अयोध्या लौटे थे। ठीक उसी तरह अयोध्या में पुष्पक विमान की जगह हेलीकॉप्टर के जरिये भगवान राम की सवारी उतारी गई । सीएम योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम को तिलक लगाया और उनकी आरती उतारी। इसके बाद उन्होंने अयोध्या में उपस्थित लोगों को संबोधित किया। उन्होंने पूरे देशवासियों को दीपावली की शुभकामनाएं दी। इस दौरान उन्होंने रामराज्य की परिभाषा भी दी। उन्होंने कहा, 'सबके पास अपना घर हो, रोजगार हो, बिजली हो, यही रामराज्य है। बिना धर्म, जाति, संप्रदाय की बात किए सबके हित में विकास कार्य होना ही रामराज्य है।'


सीएम योगी ने कहा कि अयोध्या ने दुनिया को मानवता दिखाई है। अयोध्या पर नकारात्मक चर्चा बंद होनी चाहिए। उन्होंने कहा, 'अयोध्या में 113 करोड़ की योजनाएं शुरू हो रही हैं। अयोध्या की भारत को सशक्त और समृद्ध बनाने की कोशिश जारी हैं। मोदी जी के नेतृत्व में देश निरंतर आगे बढ़ रहा है।' सीएम ने इस दौरान पिछली केन्द्र और राज्य की सरकारों पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'पुरानी सरकारों ने सत्ता के भोग के सिवा कुछ नहीं किया। पहले अयोध्या में घंटों बिजली नहीं आती थी। अब अयोध्या के साथ-साथ पूरे देश में बिजली पहुंचाई जा रही है।'

इससे पहले अयोध्या में निकली शोभायात्रा साकेत महाविद्यालय से दोपहर बाद 2 बजे निकलकर अयोध्या की सड़कों से गुजरती हुई लगभग 3 किलोमीटर के सफर के बाद शाम 4 बजे रामकथा पार्क पहुंची। शोभायात्रा में अयोध्या के साधु-संत दिखाई दिए, साथ ही बड़ी संख्या में अयोध्यावासी भी शामिल हुए। 


इस मौके पर अयोध्या में आयोजित कार्यक्रम में भगवान राम के जीवन की कुछ मुख्य घटनाओं को झांकियों और नाटकों के जरिए दिखाया गया।  झांकियों को ट्रकों पर सजाकर प्रदर्शित किया गया। झांकियों के साथ-साथ लोक कलाकारों ने संबंधित झांकी से जुड़ी नृत्य नाटिका भी प्रस्तुत की।

रामकथा पार्क के बाद 6 बजे योगी सीधे सरयू तट की ओर रवाना हो गए। यहां सरयू नदी का 15 मिनट तक पूजन हुआ। इसके बाद 5100 बत्ती की महाआरती हुई। इसके लिए सरयू तट पर स्टेज बनाया गया। यहां लाइट शो के साथ रामायण की कहानी प्रदर्शित की गई।  इसके बाद मुख्यमंत्री योगी राम की पौड़ी पर गए, जहां 1 लाख 87 हजार दीपों को प्रज्वलित किया गया।