दैनिक भास्कर हिंदी: Veere Di Wedding Review: फिल्म के डायलॉग्स और प्रॉब्लम्स से युवा जोड़ेंगे खुद को

June 2nd, 2018

फिल्म: वीरे दी वेडिंग 

डायरेक्टर: शशांक घोष 

स्टार कास्ट: करीना कपूर खान, सोनम कपूर, शिखा तलसानिया, स्वरा भास्कर, सुमीत व्यास, नीना गुप्ता 

अवधि: 2 घंटा 5 मिनट 

रेटिंग: 3 स्टार

निर्देशक परिचय 

फिल्म वीरे दी वेडिंग डायरेक्टर शशांक घोष के निर्देशन में बनाई गई फिल्म है। शशांक घोष फिल्म वैसा भी होता है टू, क्विक गन मुरुगन, मुंबई कटिंग, खूबसूरत जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं। अब उन्होंने करीना कपूर खान, सोनम कपूर, शिखा तलसानिया, स्वरा भास्कर के साथ एक एडल्ट कॉमेडी ड्रामा बनायी है। ये फिल्म चार दोस्तों पर आधारित है। इस तरह की फिल्म हम पहले भी देख चुके हैं लेकिन इस फिल्म को खास बनाया है इसकी स्टारकास्ट ने।

कहानी 

फिल्म की कहानी दिल्ली के एक ही स्कूल में पढ़ने वाली चार लड़कियों से शुरू होती है। स्कूल से निकलने के 10 साल बाद चारों दोस्त यानि अवनी (सोनम कपूर), साक्षी सोनी (स्वरा भास्कर), मीरा (शिखा तल्सानिया) और कालिंदी पुरी (करीना कपूर खान) अलग-अलग स्थिति में होती हैं। साक्षी सोनी ने शादी तो कर ली लेकिन लंदन जाकर अपने पति विनीत से तलाक लेकर वापस दिल्ली आ जाती है। वहीं मीरा अपने पिता की मंजूरी के बिना अमेरिका के रहने वाले जॉन से शादी कर लेती है जिनका बेटा कबीर होता है। तीसरी तरफ दिल्ली में ही रहकर अवनी ने वकालत की पढ़ाई की और मैट्रिमोनियल वकील बन गई हैं। वहीं कालिंदी की ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई के दौरान ऋषभ (सुमित व्यास) से मुलाकात होती है और दोनों शादी का प्लान करते हैं। इसके लिए वो ऑस्ट्रेलिया से दिल्ली चले आते हैं। जब कालिंदी की शादी की खबर उसकी तीनों दोस्तों को मिलती है तो वे दिल्ली आकर एक साथ कालिंदी की शादी में शरीक होने के लिए तैयार होती हैं। इन चारों दोस्तों की जिंदगी में तरह-तरह के उतार चढ़ाव देखने को मिलते हैं। जब ये चारों दोस्त एक साथ कालिंदी की शादी के लिए मिलते हैं तो बहुत सारी कहानियां सामने आती हैं। कई मोड़ भी दिखाई देते हैं और आखिर में एक रिजल्ट निकलता है जिसे जानने के लिए आपको थियेटर की ओर रुख करना होगा और देखनी होगी ये फिल्म।

 


निर्देशन और पटकथा 

फिल्म का निर्देशन दिलचस्प है। इस फिल्म को दिल चाहता है फीमेल वर्जन भी कहा जा सकता है। डायरेक्टर शशांक घोष ने वैसे तो पूरी फिल्म में कहीं कोई कसर नहीं रखी है। फिर भी फिल्म का एक हिस्सा ऐसा है जो और बेहतर हो सकता था। फिल्म में लड़कियों के डायलॉग तो शानदार हैं पर कहीं-कहीं पर ज्यादा गप्पबाजी में समय बर्बाद किया है जिससे फिल्म थोड़ी ठहरी हुई सी लगती है।

 


अभिनय और संगीत 

फिल्म में अभिनय की बात की जाए तो चारों एक्ट्रेसेस ने बेहतरीन अभिनय किया है। करीना कपूर खान, स्वरा भास्कर, सोनम कपूर आहूजा और शिखा तल्सानिया ने पूरी तरह से अपने किरदारों के साथ न्याय किया है। साथ ही नीना गुप्ता, सुमित व्यास जैसे सितारों ने भी अपनी अदाकारी से इस फिल्म को रोशन ही किया है। बात की जाए फिल्म के संगीत की तो रिलीज से पहले ही इस फिल्म का संगीत लोगों के दिलों में राज कर गया था। 'तारीफां' और 'भांगड़ा ता सजदा' जैसे गाने बेहद एंटरटेनिंग हैं।

 


क्यों जाएं फिल्म देखने

पर्दे पर महिलाओं के ऐसे किरदार जो बोल्ड हों, कम ही देखने को मिलते हैं। अपनी इच्छाओं और सेक्स के बारे में बात करने वाले किरदार आपने देखे नहीं होंगे। 'वीरे दी वेडिंग' इस ओर एक अच्छा प्रयास है। खासकर, इसके डायलॉग्स और प्रॉब्लम्स से युवा खुद को जोड़ सकेंगे। जो लोग फैशन ट्रेंड्स या लुक्‍स जैसी बातों पर फोकस करते हैं तो सोनम कपूर और करीना कपूर का स्‍टाइल उनको निराश नहीं करेगा। फैशन और ग्लैमर के मामले में फिल्म को 5 में से 5 नंबर देना गलत नहीं होगा।

 


लड़कियों को आ सकती है खासी पसंद

फिल्म चार लड़कियों की कहानी पर आधारित है इसलिए जाहिर सी बात है कि ये फिल्म लड़कियों को काफी पसंद आ सकती है। फिल्म में चारों किरदार खुलकर और अपनी शर्तों पर जीने वाले बताए गए हैं। लड़कियों का सेक्स से रिलेटेड और गाली जैसे संवाद लोगों को जरूर नापसंद हो सकते हैं। फिल्म आजकल के युवाओं से कहीं ना कहीं खुद को जोड़ती है।