Fake news: अफगानिस्तान से IAF C-17 विमान नहीं लेकर आया 800 भारतीयों को, जानें वायरल फोटो का सच

August 19th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अफगानिस्तान में तालिबान के आने से स्थिति गंभीर हो गई है। सभी देश वहां से अपने नागरिकों को निकालने के लिए विमान भेज रहे हैं। भारत ने भी अपने नागरिकों को सही सलामत वहां से वापस लाने के लिए विमान भेजे हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर काफी शेयर की जा रही है और उसके साथ दावा किया जा रहा है कि “ भारतीय विमान IAF C17 ने 800 लोगों के साथ उड़ान भरी है, यह तस्वीर आज सुबह काबुल हवाई अड्डे से आई है।”

दरअसल, भारतीय वायु सेना ने यहां के नागरिकों को लाने के लिए एक विशेष विमान को अफ़गानिस्तान भेजा था, यह विमान दूतावास के कर्मचारियों और वहां फंसे भारतीय नागरिकों को लाने के लिए 16 अगस्त को रवाना हुआ था। 

अफगानिस्तान में महिलाओं के पैर में जंजीर डालकर घुमाया जा रहा, जाने वायरल हो रहे इस फोटो का सच 

क्या सच में विमान से आए 800 लोग?
जब हमने इस तस्वीर को रिवर्स-इमेज सर्च किया किया तो हमें 19 दिसंबर, 2013 की एक रिपोर्ट मिली। उसमें बताया गया था कि यह तस्वीर 17 नवंबर, 2013 को है जिसे 670 से ज़्यादा टैक्लोबैन निवासियों को तूफ़ान हैयान से बचाते वक्त लिया गया था। सभी लोग C-17 ग्लोबमास्टर में बैठे नजर आ रहें हैं इन्हें फिलीपींस में हैयान तूफ़ान से बचा कर निकाला जा रहा है। तस्वीर US वायु सेना के स्टाफ सर्जेंट रेमन ब्रॉकिंगटन ने ली थी। 

इस रिपोर्ट से यह बात साफ हो जाती है कि भारत सरकार ने C-17 से 800 लोगों वापस लेकर नहीं आई है। वहीं अमेरिका रविवार के दिन 640 लोगों को विमान से वापस लेकर आई है। इस बात की चर्चा डेली मेल ने भी अपने रिपोर्ट में की है।

क्या केरल में मुस्लिमों ने तोड़ी अम्बेडकर की मूर्ती? जाने इस वायरल वीडियो का सच

एक निजी चैनल की खबर में बताया गया है कि भारत-तिब्बत सीमा पर भी कम से कम 100 पुलिस कर्मियों के साथ 200 भारतीय नागरिक वहां से निकलने का इंतज़ार कर रहे हैं, जिसमें में से 45 लोगों को सोमवार के दिन वहां से निकाल लिया गया है। मंगलवार के दिन भारतीय वायु सेना का विमान C-17 काबुल से भारतिये लोगों को लेकर गुजरात के जामनगर पहुंचा है इस विमान में 120 भारतीय सवार थे। इस तरह से यह बात साबित हो जाती है की इस तस्वीर से संबंघित सारे दावे फर्जी हैं।

खबरें और भी हैं...