comScore

America: डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- भारत के खिलाफ चीन के आक्रामक रुख ने उसके वास्तविक चरित्र का सबूत दिया


हाईलाइट

  • ट्रंप ने भारत के खिलाफ चीन के आक्रामक रुख को उसके वास्तविक चरित्र की पुष्टि बताया
  • कायले मैकनेनी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रंप के इस रुख की जानकारी दी
  • अमेरिका ने भारत की 59 चाइनीज ऐप्स को बैन करने की कार्रवाई का भी समर्थन किया

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और अन्य देशों के खिलाफ चीन के आक्रामक रुख को उसके वास्तविक चरित्र का सबूत बताया है। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव कायले मैकनेनी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रंप के इस रुख की जानकारी दी है। वहीं अमेरिका ने भारत की 59 चाइनीज ऐप्स को बैन करने की कार्रवाई का भी समर्थन किया है। इसके अलावा अमेरिका ने भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के शांतिपूर्ण समाधान का भी समर्थन किया है। अमेरिका ने कहा कि भारत चीन तनाव पर हम करीबी नजर रखे हुए हैं।

क्या कहा कायले मैकनेनी ने?
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कायले मैकनेनी से भारतीय सैनिकों पर चीन के हमले के बारे में एक सवाल किया गया था। इसके जवाब में मैकनेनी ने कहा,  'ट्रंप ने कहा था कि भारत-चीन सीमा पर चीन का आक्रामक रुख दुनिया के अन्य हिस्सों में चीनी आक्रामकता के पैटर्न के साथ फिट बैठता है। ये कार्रवाई चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) के वास्तविक चरित्र की पुष्टि करती है। उन्होंने कहा कि ट्रंप भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव की स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने कहा, भारत और चीन दोनों ने डी-एस्कलेट की इच्छा व्यक्त की है और हम मौजूदा स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान का समर्थन करते हैं। 

चीन ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने पर क्या कहा?
टिक्कॉक और 58 अन्य चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के भारत के फैसले के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने स्टेट सेक्रेटरी माइक पोम्पिओ के बयान का उल्लेख किया। पोम्पिओ ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रिपोर्टरों से कहा था- हम भारत के फैसले का स्वागत करते हैं। ये ऐप्स चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के जासूसी करने वाले देश चीन का पिछलग्गू बनकर काम कर रही थीं। पोम्पिओ ने कहा, भारत की 'क्लीन ऐप' अप्रोच से भारत की संप्रभुता बढ़ेगी, भारत की अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा को भी बढ़ावा मिलेगा, जैसा कि भारत सरकार ने खुद कहा है।

15 जून को भारत-चीन के बीच हिंसक झड़प हुई थी
बता दें कि 15 जून को भारत और चीन की सेना में हिंसक झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर आई थी। हालांकि, चीन ने कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं जारी किया है। इसके बाद भारत सरकार ने चीन के 59 ऐप्स पर बैन लगा दिया।। इस लिस्ट में टिक टॉक, यूसी ब्राउजर, हेलो और शेयर इट जैसे ऐप्स शामिल हैं। सरकार ने कहा था कि इन चाइनीज ऐप्स के जरिए यूजर्स का डेटा चुराया जा रहा था। सरकार ने इन्फर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के सेक्शन 69ए के तहत इन चीनी ऐप्स को बैन किया है।
 

कमेंट करें
uQcLI