दैनिक भास्कर हिंदी: अमेरिकी मिलिट्री प्लेन क्रैश में 9 की मौत, ट्रंप ने जताया दुख

May 3rd, 2018


डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। अमेरिका के जार्जिया प्रांत में सेवन्नाह के पास अमेरिकी सेना का विमान हादसे का शिकार हो गया। घटना की पुष्टि अमेरिकी सैन्य अधिकारियों ने बुधवार को की। सैन्य अधिकारियों  ने बताया कि विमान में नौ लोग सवार थे, जिनकी मौके पर ही मौत हो गई। प्यूर्टो रिकन नेशनल गार्ड के प्रवक्ता मेजर पॉल डैलेन ने बताया कि एयर नेशनल गार्ड डब्ल्यूसी-130 विमान जिस समय हादसे का शिकार हुआ, उस समय उस पर पांच क्रू मेंबर्स और चार यात्रियों समेत कुल नौ लोग सवार थे। प्यूटोरिको सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि हादसे में विमान में सवार किसी व्यक्ति के बचने की खबर नहीं है। इस बीच एफिंगम काउंटी के शेरिफ के निर्देश पर सेवन्नाह के हाईवे-21 को बंद कर दिया गया है, जहां विमान हादसा हुआ। अफसरों ने पहले बताया था कि विमान में सवार चालक दल के पांच सदस्यों की मौत हो गई है, लेकिन बाद में सामने आया कि विमान में अन्य लोग भी सवार थे।

 

डोनाल्‍ड ट्रंप ने ट्वीट कर परिवार के साथ संवेदनाएं जाहिर की

 

 

एक के बाद एक हादसों से परेशान सेना डैलेन ने तुरंत इस बात की पुष्टि नहीं की कि एयरक्राफ्ट में सवार सभी नौ लोगों की मौत हो गई है लेकिन उन्‍होंने कहा कि क्रैश की जो फोटोग्राफ्स आई हैं वो सबकुछ बता रही हैं। ट्विटर पर जो फोटोग्राफ्स आई हैं उसमें साफ नजर आ रहा है कि कैसे एयरक्राफ्ट का मलबा आसमान से गिर रहा है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ट्वीट कर बताया कि उन्‍हें इस घटना की जानकारी दे दी गई है। उन्‍होंने इसके साथ ही पीड़‍ितों के परिवार के साथ संवेदनाएं जाहिर की हैं। डैलेन ने कहा कि ये एयरक्राफ्ट 50 वर्षों से भी ज्‍यादा समय का हो चुका था। एयरक्राफ्ट डेविस मोनाथन एयरफोर्स बेस के लिए रवाना हुआ था जहां पर इसकी सर्विसिंग होनी थी। इस घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। 

अमेरिकी सेना हवाई हादसों से परेशान

अमेरिकी सेना एक के बाद एक होने वाले हवाई हादसों से परेशान हो चुकी है। हाल ही में लास वेगास के करीब एक एफ-16 फाइटर जेट क्रैश हो गया था जिसमें पायलट की मौत हो गई थी। वहीं, अभी कुछ ही दिनों पहले मरीन कोर का एक हेलीकॉप्‍टर सदर्न कैलिफोर्निया में क्रैश हुआ है जिसमें चार क्रूल मेंबर्स की मौत हो गई थी। वहीं दिजबूती में भी अमेरिकी सेना को दो हादसों का शिकार होना पड़ा था।