दैनिक भास्कर हिंदी: पुतिन के साथ फैनबॉय की तरह खड़े थे ट्रंप, लग रहा था ऑटोग्राफ लेने आए हैं : अर्नोल्ड श्वार्जनेगर

July 17th, 2018

हाईलाइट

  • ट्रंप-पुतिन की मुलाकात पर अर्नोल्ड श्वार्जनेगर ने ट्वीटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है।
  • अर्नोल्ड श्वार्जनेगर ने वीडियो में ट्रंप को पुतिन का फैन बॉय करार दिया है।

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। हॉलिवुड स्टार अर्नोल्ड श्वार्जनेगर ने हेलसिंकी में हुई अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि ट्रंप ने इस मुलाकात में रूसी प्रेसीडेंट पुतिन के 'फैनबॉय' की तरह काम किया है। श्वार्जनेगर ने दो दिग्गजों की इस मुलाकात पर मंगलवार को ट्वीटर पर एक वीडियो पोस्ट किया। 45 सेकंड के इस वीडियो में 70 वर्षीय श्वार्जनेगर ट्रंप की जमकर आलोचना करते दिखे। वीडियो में वे कह रहे हैं, 'पुतिन के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में आप एक लिटल वेट नूडल की तरह खड़े थे। आप एक फैनबॉय की तरह खड़े थे। यह बिलकुल ही बचकाना था। ऐसा लग रहा था कि आप उनसे ऑटोग्राफ या एक सेल्फी लिए पूछने जा रहे हैं।'

कैलिफोर्निया के पूर्व गवर्नर रहे श्वार्जनेगर ने रूस के प्रति नर्म रवैया अपनाने पर भी ट्रंप को लताड़ लगाई। उन्होंने कहा,'अमेरिका एक सुपर पॉवर है। क्या आप वह दिन भूल गए जब पूर्व राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने जर्मनी जाकर बर्लिन की दीवार तोड़ने को कहा था। आप संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति हैं। आपको इस तरह रूसी राष्ट्रपति के फैनबॉय बनकर नहीं घूमना चाहिए।'

 


श्वार्जनेगर ने यह भी कहा कि पुतिन के साथ मिलकर अपने देश, अमेरिकन इंटेलिजेंस कम्यूनिटी, जस्टिस सिस्टम का सौदा करना कहीं से जायज नहीं है। यह देशद्रोह है और आप अमेरिका का नाम खराब कर रहे हैं।

बता दें कि श्वार्जनेगर की यह प्रतिक्रिया ट्रंप द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिए उन बयानों पर आई है, जिनमें वे व्लादिमीर पुतिन के बयानों का समर्थन करते हुए दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि हेलसिंकी में हुई इस मुलाकात में पुतिन ने अपने ऊपर लगे अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में हस्तक्षेप करने के आरोपों को खारिज किया था। उन्होंने कहा था, 'मैं चाहता था कि डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति बनें लेकिन रूस ने अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में कभी दखल नहीं दिया।' पुतिन के इस बयान को ट्रम्प ने भी सही ठहराया था और कहा था कि इस पूरे मामले पर अमेरिका का रवैया बेवकूफी भरा रहा है। ट्रंप के इस बयान की पूरे अमेरिका में आलोचना हो रही है। अमेरिकी मीडिया से लेकर सोशल मीडिया और सड़कों पर अमेरिकी नागरिक ट्रंप  के इस बयान की निंदा कर रहे हैं।