ब्रिटेन प्रधानमंत्री चुनाव : ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री को विरासत में मिलेगी अव्यवस्था

July 23rd, 2022

हाईलाइट

  • यूके अभी भी कोविड -19 महामारी के आर्थिक झटके से उबर रहा है

डिजिटल डेस्क, लंदन। यूनाइटेड किंगडम के अगले प्रधानमंत्री को एक ऐसी अव्यवस्था विरासत में मिलेगी, जिसको लेकर गवनिर्ंग कंजरवेटिव पार्टी के कुछ सदस्यों का मानना है कि इसे प्रबंधित करना असंभव होगा। मीडिया रिपोटरें में यह जानकारी दी गई है। लंदन की क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी में राजनीति के प्रोफेसर और कंजरवेटिव पार्टी का व्यापक अध्ययन करने वाले टिम बेल कहते हैं, पार्टी के एक सदस्य की औसत आयु 50 के दशक के उत्तरार्ध में है। केवल आधे से कम उम्र के लोग पेंशन योग्य होते हैं और वे मुख्य रूप से गोरे होते हैं।

बेल का कहना है, वे ज्यादातर दक्षिणी इंग्लैंड में रहते हैं और (आर्थिक रूप से) आरामदायक हैं। वे कानून और व्यवस्था पर एक मजबूत लाइन का समर्थन करते हैं, वे कम करों को स्वीकार करते हैं लेकिन मानते हैं कि सार्वजनिक सेवाएं महत्वपूर्ण हैं और उन्हें ठीक से वित्त पोषित किया जाना चाहिए।

अप्रत्याशित रूप से, जीवन की लागत के संकट को देखते हुए, बहस का मुख्य मुद्दा यह रहा है कि अर्थव्यवस्था को कैसे संभाला जाए। विदेश मंत्री लिज ट्रस जॉनसन के कर वृद्धि से एक अलग ²ष्टिकोण का आह्वान कर रही हैं, और दावा करती हैं कि करों में तुरंत कटौती से विकास होगा। पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक का तर्क है कि यह काल्पनिक अर्थशास्त्र है, यह देखते हुए कि यूके अभी भी कोविड -19 महामारी के आर्थिक झटके से उबर रहा है।

महीनों से चुनावों में संघर्ष कर रही और लगभग लंबे समय से सार्वजनिक रूप से खुद को झकझोरने वाली पार्टी को फिर से संगठित करने और एकजुट करने का काम किसी के लिए भी मुश्किल होगा। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, नेतृत्व के किसी भी दावेदार के लिए यह और भी कठिन होगा, दोनों के समर्थक एक-दूसरे पर कीचड़ उछाल रहे हैं।

 

 (आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.