comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कोरोना वायरस: वैज्ञानिकों ने किया नया खुलासा, बताया दुनिया में किस कारण फैला मौत का वायरस

कोरोना वायरस: वैज्ञानिकों ने किया नया खुलासा, बताया दुनिया में किस कारण फैला मौत का वायरस

हाईलाइट

  • नई खोज में पता चला कि कोरोना वायरस फैलाने में वन्य जीव पैंगोलिन की भी भूमिका हो सकती
  • जीनोम सीक्वेंस संक्रमित व्यक्तियों के जीनोम सीक्वेंस से 99 प्रतिशत मिलता जुलता
  • एशिया का सबसे ज्यादा तस्करी किया जाने वाला जीव है पैंगोलिन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीन में तेजी से फैल रहे नोवेल कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 636 हो गई है, जबकि कन्फर्म मामलों की संख्या भी बढ़कर 31,161 हो गई है। चीनी प्रशासन ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। वहीं वैज्ञानिकों ने इस जानलेवा वायरस के बारे में नया खुलासा किया है। वैज्ञानिकों को पहले शक था कोरोना वायरस सांप और चमगादड़ों से आया है, लेकिन अब नई खोज में पता चला है कि इसमें वन्य जीव पैंगोलिन की भी भूमिका हो सकती है। शोध करने वाले दक्षिण चीन कृषि विश्वविद्यालय ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा है कि उनका नवीनतम शोध के जरिए कोरोना के वायरस की रोकथाम और नियंत्रण किया जा सकता है। 

चीन की साउथ चाइना एग्रीकल्चरल यूनिर्विसटी के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने एक दल द्वारा किए गए अनुसंधान के अनुसार पैंगोलिन से अलग किया गया कोरोना वायरस का जीनोम सीक्वेंस संक्रमित व्यक्तियों के जीनोम सीक्वेंस से 99 प्रतिशत मिलता जुलता है। शोध के अनुसार पैंगोलिन के शरीर से विषाणु फैलने की संभावना हो सकती है। विश्वविद्यालय के अध्यक्ष लिउ यहोंग के अनुसार शोध कर रहे दल ने जंगली पशुओं के जीनोम के एक हजार नमूनों का विश्लेषण किया और पाया कि पैंगोलिन से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना सबसे अधिक है।

एशिया का सबसे ज्यादा तस्करी किया जाने वाला जीव
पैंगोलिन दुनिया का शल्क वाला एक मात्र स्तनधारी जीव है। एशिया के कई देशों में इसे खाने और दवाओं के इस्तेमाल किया जाता है। जानकारों के अनुसार वैश्विक बाजार में इसकी कीमत दस से बारह लाख रुपए है, जबकि भारत में इसे तस्करी के जरिए 20 से 30 हजार रुपए में बेचा जाता है। पैंगोलिन एशिया का सबसे ज्यादा तस्करी किया जाना वाला जीव है। अंतरराष्ट्रीय कानूनों में इस जीव को संरक्षण दिया है। इसके मांस को चीन में बहुत स्वादिष्ट माना जाता है और इसके शरीर के शल्कों का परंपरागत औषधि को बनाने में इस्तेमाल होता है। लोगों को विश्वास है कि इससे नपुंसकता दूर होती है। इसके अलावा इससे अंधविश्वासों से भी जोड़ कर भी देखा जाता है।

चीन का नहीं रुकेगा आर्थिक विकास: शी जिनफिंग
चीनी राष्ट्रपति शी जिनफिंग ने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप से कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से चीन के दीर्घावधि वाले आर्थिक विकास पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। जिनफिंग ने टेलीफोन के जरिए हुए बातचीत में उनसे कहा कि चीनी अर्थव्यवस्था का सकारात्मक ट्रेंड लंबे समय में नहीं बदलेगा। 

73 मौतों की जानकारी मिली
वहीं चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि उन्हें 31 प्रांतीय स्तर के क्षेत्रों और शिंजियांग प्रोडक्शन एंड कंस्ट्रक्शन कॉर्प्स से गुरुवार को कोरोनवायरस संक्रमण के कन्फर्म 3,143 नए मामलों और 73 मौतों की जानकारी मिली है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के हवाले से बताया कि इन मौतों में 69 हुबेई प्रांत में, एक जिलिन में, एक हेनान में, एक गुआंगदोंग में और एक मौत हाइनान में हुई है। इस तरह अब तक कुल 636 मौतें हो चुकी हैं। 

कमेंट करें
WwEF5