comScore

Dawood Death News: अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम की कोरोना से मौत! पुष्टि नहीं

Dawood Death News: अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम की कोरोना से मौत! पुष्टि नहीं

हाईलाइट

  • दाऊद इब्राहिम की कोरोना से मौत की खबर, पुष्टि नहीं
  • भाई अनीस ने दाऊद के संक्रमित होने से किया था इनकार

डिजिटल डेस्क, कराची। भारत के मोस्ट वॉन्टेड और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की कोरोना वायरस की मौत की खबरे सामने आ रही हैं। हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। इससे पहले शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि दाऊद और उसकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव हैं। कराची के आर्मी हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है और दोनों की हालत गंभीर है। हालांकि दाऊद के भाई अनीस ने इस खबर को खारिज करते हुए कहा था कि दाऊद और उसका पूरा परिवार इससे संक्रमित नहीं हैं।

भारत में मॉस्ट वॉन्टेड है दाऊद
पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के संरक्षण में रह रहे दाऊद इब्राहिम कासकर के बारे में कहा जाता है कि वह कराची में रहता है। दाऊद 1993 में मुंबई हुए सीरियल बम ब्लास्ट सहित कई मामलों में आरोपी है। इस्लामाबाद ने वर्षों से दाऊद और उसके परिवार की पाकिस्तान में मौजूदगी से इनकार किया है। डी-कंपनी का शार्प शूटर और जबरन वसूली व सट्टेबाजी सिंडिकेट का प्रभारी छोटा शकील भी कराची में रहता है। 

1994 से कराची में बसा हुआ है दाऊद
दाऊद का परिवार 1994 से ही पाकिस्तान के कराची में बसा हुआ है। उसके परिवार में उसकी बेटी महरुख भी शामिल है, जिसकी शादी पाकिस्तान के पूर्व स्टार क्रिकेटर जावेद मियांदाद के बेटे से हुई है। डी-कंपनी का रणनीतिकार अनीस 1990 के दशक की शुरुआत से खबरों में रहा है, जब उसने कथित तौर पर मुंबई में फिल्मस्टार संजय दत्त के आवास पर हथियारों से भरा वाहन भेजा था। उस पर दुबई में अपने बेस से बॉलीवुड फिल्मों को फंडिंग करने और क्रिकेट में सट्टेबाजी के सिंडिकेट चलाने का भी आरोप है। कुछ साल पहले उसे कथित रूप से सऊदी अरब में हिरासत में लिया गया था, लेकिन भारतीय एजेंसियों के जाल में फंसने से पहले ही वह भागने में सफल रहा।

पाकिस्तान और दुबई में कारोबार

  • टेलीफोन पर हुई संक्षिप्त बातचीत में अनीस ने स्वीकार किया कि डी-कंपनी पाकिस्तान और दुबई के माध्यम से कारोबार चलाती है। 
  • यूएई में लक्जरी होटल चलाने और पाकिस्तान और अन्य देशों में बड़ी निर्माण परियोजनाओं के बारे में पूछे जाने पर, अनीस ने इनकार नहीं किया और कहा कि तो क्या करते? उसने यह भी स्वीकार किया कि डी-कंपनी ट्रांसपोर्ट व्यवसाय भी चलाती है।
  • संयुक्त राष्ट्र और इंटरपोल सहित विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों को भारत सरकार द्वारा सौंपे गए खुफिया दस्तावेजों से पता चलता है कि डी-कंपनी का कराची हवाई अड्डे से अफगानिस्तान तक एक प्रमुख ट्रांसपोर्ट बिजनेस है। 
  • डी-कंपनी द्वारा नियुक्त ट्रक चालक डॉन को अफगान-पाकिस्तान सीमा पर वाहनों की एक सुगम श्रंखला के माध्यम से अवैध हेरोइन की तस्करी में भी मदद करते हैं। 
  • दाऊद और उसके भाई ने बाद में पाकिस्तान और यूएई में होटल और रिसॉर्ट्स व्यवसाय में भी निवेश किया है। 
  • डॉन के पास सिंध प्रांत में हैदराबाद (पाकिस्तान) के पास कोटरी में एक पेपर मिल के बगल में कई मॉल भी हैं।
कमेंट करें
bJQ2V