कोयले की कीमत: चीन में कोयला उत्पादन केंद्र पर बाढ़ का असर, कीमतों में आया उछाल

October 12th, 2021

हाईलाइट

  • भारी बारिश ने चीन के सबसे बड़े कोयला खनन केंद्र को किया प्रभावित

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उत्तरी चीन में बाढ़ से एक प्रमुख कोयला उत्पादन केंद्र बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। इस कारण कोयले की कीमतें बढ़ रही हैं और बिजली की कमी से निपटने के लिए बीजिंग के चल रहे प्रयास सफल नहीं हो पा रहे हैं। सीएनएन के मुताबिक, प्रांतीय सरकार के आपातकालीन प्रबंधन ब्यूरो द्वारा शनिवार को जारी एक बयान के अनुसार, भारी बारिश ने चीन के सबसे बड़े कोयला खनन केंद्र शानक्सी प्रांत में 60 कोयला खदानों को बंद करने के लिए मजबूर किया है। यह प्रांत देश के कोयला उत्पादन का एक चौथाई हिस्सा है।

सिक्योरिटीज टाइम्स के अनुसार, निकटवर्ती शानक्सी प्रांत कोयला उत्पादन में देश में तीसरे स्थान पर है। भारी बारिश ने इसे और स्थानीय खदानों के संचालन को नुकसान पहुंचाया है। थर्मल कोल फ्यूचर्स की कीमत, जो मुख्य रूप से बिजली पैदा करने के लिए उपयोग की जाती है, सोमवार को झेंग्झौ कमोडिटी एक्सचेंज में एक सर्वकालिक उच्च स्तर - 12 प्रतिशत से 1,408 युआन (219 डॉलर) प्रति मीट्रिक टन पर पहुंच गई। सीएनएन ने बताया कि इस साल अब तक कीमत दोगुनी से अधिक हो गई है।

कोयला चीन में ऊर्जा का मुख्य स्रोत है और इसका व्यापक रूप से हीटिंग, बिजली उत्पादन और इस्पात निर्माण के लिए उपयोग किया जाता है। पिछले साल कोयला चीन के कुल ऊर्जा उपयोग का लगभग 60 प्रतिशत हिस्सा बनाया। हाल के हफ्तों में 20 चीनी प्रांतों में ऊर्जा की कमी फैल गई है, जिससे सरकार को पीक आवर्स के दौरान बिजली का राशन देने के लिए मजबूर होना पड़ा और कुछ कारखानों को उत्पादन को निलंबित करने के लिए मजबूर करना पड़ा। सीएनएन ने बताया कि कमी ने औद्योगिक उत्पादन को नुकसान पहुंचाया है और चीन के आर्थिक दृष्टिकोण पर असर पड़ रहा है।

बिजली की कमी कई कारकों का परिणाम है, जिसने मांग को बढ़ावा दिया है और आपूर्ति कम कर दी है। चीन की महामारी के बाद के निर्माण में उछाल जीवाश्म ईंधन पर बहुत अधिक निर्भर रहा है। जबकि कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए इस साल की शुरुआत में सैकड़ों कोयला खदानों को बंद कर दिया गया या उत्पादन को कम कर दिया। इस कारण भी कोयले की कीमतों में वृद्धि हुई। प्रमुख आपूर्तिकर्ता ऑस्ट्रेलिया से कोयले पर प्रतिबंध और मौसम की मार ने भी इस मुद्दे को बढ़ा दिया है।

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...