संयुक्त राष्ट्र : मानवीय साझेदार धन की कमी के कारण सोमालिया को सहायता रोक सकते हैं

July 25th, 2022

हाईलाइट

  • देखभाल प्रावधान और आजीविका

डिजिटल डेस्क, मोगादिशु। संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के समन्वय कार्यालय (ओसीएचए) ने चेतावनी दी है कि फंड की कमी के कारण मानवीय साझेदार सोमालिया को सहायता देना बंद करने के लिए मजबूर होंगे।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ओसीएचए ने कहा कि तत्काल वित्त पोषण के बिना, खाद्य सहायता, पोषण संबंधी गतिविधियों, प्रभावी स्वास्थ्य देखभाल प्रावधान और आजीविका समर्थन जैसे कार्यक्रमों को निलंबित कर दिया जाएगा।

इसने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा, अधिक सोमालियों को नुकसान होगा, और पिछले दशक में हासिल की गई प्रगति खो जाएगी।

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने चेतावनी दी है कि सोमालिया में सूखा आपातकाल और भीषण हो गया है, जिसमें लगभग आधी आबादी, 77 लाख लोगों को मानवीय या सुरक्षा सहायता की जरूरत है।

इसने कहा कि सूखे ने कम से कम 70 लाख लोगों को प्रभावित किया है, जिनमें से 918,000 अल्पसंख्यक समूहों सहित पानी, भोजन और चारागाह की तलाश में अपने घरों से विस्थापित हो गए हैं।

ओसीएचए ने कहा, अगर फसल और पशुधन उत्पादन विफल हो जाता है, खाद्य कीमतों में वृद्धि जारी रहती है और सबसे कमजोर आबादी तक पहुंचने के लिए मानवीय सहायता जारी नहीं रहती है, तो देश 17 जिलों में अकाल की एक उचित संभावना का सामना कर रहा है।

संयुक्त राष्ट्र ने पहले चेतावनी दी थी कि तीव्र खाद्य असुरक्षा के बढ़ते स्तर को रोकने जीवन के नुकसान को कम करने और अकाल के जोखिम को रोकने के लिए कम से कम 2022 के अंत तक मानवीय सहायता को बढ़ाने और बनाए रखने के लिए तत्काल कार्रवाई की जरूरत है।

ओसीएचए ने चेतावनी दी, सहायता के पैमाने के बिना सूखा सोमालिया में बड़े पैमाने पर विस्थापन, संचारी रोगों और सुरक्षा उल्लंघनों को बढ़ावा देगा।

संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि लगातार चौथी बार असफल बारिश का मौसम, आसमान छूती कीमतों और कम मानवीय प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप सोमालिया में खाद्य असुरक्षा, भुखमरी और बीमारी के विनाशकारी स्तर का सामना करने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई है।

 

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.