comScore

भारत और अमेरिका के बीच जल्द हो सकता व्यापार समझौता: सीतारमण

भारत और अमेरिका के बीच जल्द हो सकता व्यापार समझौता: सीतारमण

हाईलाइट

  • नवंबर की शुरुआत में भारत आ सकते हैं अमेरिकी वित्त मंत्री
  • सीतारमण ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में अमेरिकी वित्त मंत्री से मुलाकात की
  • शिकागो में रविवार को भारतीय समुदाय से मिलेंगी वित्त मंत्री

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। भारत और अमेरिका के बीच जल्द ही व्यापार समझौता हो सकता है। दोनों देश की सरकार की ओर से व्यापार समझौते पर तेज गति से काम किया जा रहा है और जल्द ही मुद्दे पर कुछ सहमति बन सकती है। अमेरिकी वित्त मंत्री नवंबर की शुरुआत में भारत आ सकते हैं। इससे पहले ही हमारे बीच व्यापार समझौतों की कुछ शर्तों पर चर्चा हुई है। यह बात अमेरिकी दौरे पर गईं भारतीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कही।

सीतारमण ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) में शनिवार को अमेरिकी वित्त मंत्री स्टीवन न्यूकिन से मुलाकात के बाद कहा कि अभी वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइजर इस पर बातचीत कर रहे हैं। मुझे जानकारी मिली है कि समझौते के लिए दोनों देश मजबूती से जुड़ रहे हैं।

सीतारमण ने आईएमएफ के प्लेनेरी सेशन को भी संबोधित किया। इसके बाद उन्होंने बताया कि रविवार को मैं शिकागो में उद्योगपतियों से मुलाकात करूंगी, साथ ही यहां रहने वाले भारतीय समुदाय से भी मिलूंगी। उन्होंने बताया कि मैं एक दिन के लिए शिकागो में रहूंगी। यहां मुझे भारत के लोगों से मिलने का मौका मिलेगा।

गौरतलब है कि इसी साल जून में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारत को अपने जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज (जीएसपी) कार्यक्रम से बाहर किया था। ट्रम्प का कहना था कि उन्हें भारत से यह भरोसा नहीं मिल पाया है कि वह अपने बाजार में अमेरिकी उत्पादों को बराबर की छूट देगा। 

अमेरिका का कहना है कि भारत में पाबंदियों की वजह से उसे व्यापारिक नुकसान हो रहा है। वह जीएसपी के मापदंड पूरे करने में नाकाम रहा है। अमेरिका ने पिछले साल अप्रैल में जीएसपी के लिए तय शर्तों की समीक्षा शुरू की थी। जीएसपी के तहत भारत को अमेरिका से व्यापार में लाभार्थी का विशेष दर्जा मिला था। इस कार्यक्रम में शामिल देशों को व्यापार में विशेष तरजीह दी जाती है। अमेरिका जीएसपी में शामिल देशों से एक तय राशि तक आयात शुल्क नहीं लेता।

कमेंट करें
3plOs