दैनिक भास्कर हिंदी: इंडोनेशिया: तीन चर्च में आत्मघाती बम ब्लास्ट, 8 की मौत, दर्जनों घायल

May 13th, 2018

डिजिटल डेस्क, जकार्ता। इंडोनेशिया के तीन चर्च में हुए आत्मघाती बम विस्फोटों में 8 लोगों की मौत हो गई है। वहीं हमले में दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। धमाका सुराबया शहर के ईस्ट जावा में हुआ जो देश का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। इंडोनेशिया पुलिस के अनुसार शहर में 3 अलग-अलग चर्चों में आत्मघाती बम धमाकों को 10 मिनट के अंतराल में अंजाम दिया गया है।

 


 

इंडोनेशिया में बढ़ रहा आतंकवाद

बता दें कि पहला बम धमाका सुबह 7.30 बजे हुआ। ईस्ट जावा पुलिस के प्रवक्ता फ्रांस बारुंग मंगेरा ने बताया, 'पीड़ितों की पहचान कर ली गई है। एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक अन्य व्यक्तियों ने अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इस हमले में 2 पुलिसकर्मी समेत कुछ नागरिक भी घायल हुए हैं। पुलिस का कहना है कि इस हमले की अभी तक किसी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है।


चर्च के प्रवेश द्वार पर फैला मलबा

पुलिस ने मीडिया को बताया कि धमाकों को आत्मघाती हमलावरों ने अंजाम दिया। चर्च के प्रवेश द्वार पर मलबा फैला हुआ था। इंडोनेशिया दुनिया का मुस्लिम बहुतला के मामले में सबसे बड़ा देश है और यहां हाल ही में आतंकवाद को सिर उठाते देखा गया है। सुरबाया के उपमहापौर विष्णु शक्ति बुआना ने बताया कि चौथा हमला कैथेड्रल चर्च पर भी हो सकता था लेकिन एक संदिग्ध की तुरंत गिरफ्तारी के साथ ही नाकाम कर दिया गया।

 

पुलिस के अनुसार एक आरोपी की बम धमाके में मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दूसरे आरोपी की अस्पताल में मौत हो गई है। साथ ही दो पुलिसवाले भी इस धमाके में घायल हुए है, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने इस पूरे इलाके को बंद कर दिया है।

 

2002 से आतंकवाद बढ़ा

बता दें कि इंडोनेशिया में कुछ ही दिन पहले ही दंगे हुए थे। एक डिटेंशन सेंटर में कुछ लोगों को बंधक भी बना लिया गया था। इस हिंसा में पांच लोगों की मौत हुई थी। इंडोनेशिया 2002 से आतंकवाद से जूझ रहा है। अलकायदा से जुड़े एक संगठन ने बाली में 2002 में सिलसिलेवार बम धमाके किए थे। इनमें 202 लोगों की मौत हुई थी। इनमें 88 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक थे।