comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Bhaskar Special: सिर्फ एक रात में लिखी गई थी 'शैतान' की यह किताब, 85 किलो है वज़न, पढ़ते ही लोग हो जाते हैं पागल !

January 14th, 2021 11:24 IST
Bhaskar Special: सिर्फ एक रात में लिखी गई थी 'शैतान' की यह किताब, 85 किलो है वज़न, पढ़ते ही लोग हो जाते हैं पागल !

हाईलाइट

  • द डेविल बाइबल है यानी की शैतान की किताब
  • कागज पर नहीं, जानवर के चमड़े पर लिखी गई book
  • इस किताब को एक आदमी अकेले नहीं उठा सकता

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  क्या आपने दुनिया की सबसे खतरनाक किताब के बारे में सुना है। एक ऐसी किताब जो 700 साल के बाद भी एक रहस्य है। कहा जाता है कि यह शैतान की सबसे बड़ी किताब है। एक ऐसी किताब, जिसकी पास भी पहुंची उसका दिमागी संतुलन बिगड़ गया, पागल हो गया या उसकी जान चली गई। एक ऐसी किताब जिसमें लिखे हुए शब्द, कई चश्मदीद हैं, जिनका कहना है कि जब उन्होंने किताब को पढ़ना शुरू किया तो वो अक्षर हवा में तैरते हुए नजर आए और उन अक्षरों में शौले थे, आग थी। इसलिए इस पुस्तक का नाम devils bible पड़ा क्योंकि इसे किसी दैवीय शक्ति ने नहीं, बल्कि एक शैतानी शक्ति की प्रेरणा के जरिये लिखा गया है। ये पुस्तक जहां भी जिसके भी पास जाती उसका मानसिक संतुलन बिगड़ जाता था। तो ये इस किताब की कहानी है। 

कागज पर नहीं, जानवर के चमड़े पर लिखी गई...

यह सिर्फ एक कहानी नहीं है, बल्कि हकीकत है और यह किताब आज भी एक शहर की लाइब्रेरी में मौजूद है। इस किताब के बारे में दुनिया में कई लोगों के पास जानकारी भी है। लेकिन कहते हैं कि इस किताब को एक शैतान ने लिखी थी, अब यह सोचने वाली बात हो जाती है कि क्या कोई शैतान किताब लिख सकता है। इस किताब को लिखने की कहानी इतनी दिलचस्प है कि समझ नहीं आता कि क्या सच है और क्या झूठ है। कहते हैं कि यह किताब एक रात में ही लिखी गई। दुनिया के जितने भी ज्यादातर जानकार हैं और एक्सपर्ट हैं, जिन्होंने इस किताब पर रिसर्च की, उनका मानना है कि एक रात में एक ही आदमी इस किताब को एक ही हैंडराइटिंग में कैसे लिख सकता है। लोगों का कहना है कि अगर एक ही आदमी इस किताब को लिखे तो भी उसे कम से कम 25 साल लग जाएंगे। ये किताब कागज के ऊपर नहीं लिखी गई, ये किताब चमड़े के ऊपर, जानवर के चमड़े के ऊपर लिखी गई। वो भी एक रात में और यहीं बात कोई मानने को तैयार नहीं है कि एक रात में इसे कोई लिख सकता है। 

ये किताब है क्या...

इस किताब का नाम द डेविल बाइबल है यानी की शैतान की किताब। यह किताब एक और नाम से पूरी दुनिया में मशहूर है (कोडेक्स गिगास)। इस किताब में कुल 310 पन्ने हैं और सभी चमड़े के हैं। कहते हैं कि इस किताब को लिखने के लिए 160 गधों का इस्तेमाल किया गया और उनकी चमड़ी पर यह किताब लिखी गई। यह किताब 36 इंच लंबी है, 23 इंच चौड़ी है। इसका वजन लगभग 85 किलो है। इस किताब को एक आदमी अकेले नहीं उठा सकता, कम से कम दो लोगों की जरूरत पड़ेगी। 

13वीं सदी में एक सन्यासी हुआ करते थे। वो एक मठ में रहा करते थे और कुछ समय बाद वह मठ के नियमों का उल्लंघन करने लगे। यह बात फैली, वहां के राजा तक। यह चेक गणराज्य के समय की बाात है। उस सन्यासी को इस अपराध के जुर्म में राजा के पास पेश किया गया। राजा ने जांच कमेठी बनाई और जब यह साबित हो गया कि सन्यासी ने मठ के नियम तोड़े हैं तो सजा के तौर पर राजा ने उसे जिंदा दीवार में चुनवा दिया। अब इसमें दो चीजें, एक जगह दीवार की बात है और एक जगह लिखा गया है कि जिंदा ताबूद में दफना दिया गया। अब सन्यासी की मौत तय थी और ऐसे में उस सन्यासी ने राजा के सामने एक प्रस्ताव रखा कि वो एक ऐसी किताब लिखेगा कि वह पूरी मानवजाति के लिए एक बेहद अच्छी किताब होगी और यह किताब मठ को हमेशा के लिए गौरवांवित कर देगी। 

अब राजा ने उस सन्यासी के सामने शर्त रखी कि ठीक है, लेकिन तुम्हें यह किताब एक रात में लिखनी होगी। अगर तुमने ऐसा किया तो सुबह तुम्हारी सजा माफ कर देंगे और तुम्हें जिंदा छोड़ देंगे। सन्यासी ने राजा की यह शर्त मान ली। वह किताब लिखने बैठा लेकिन आधी रात उसने हार मान ली कि वह सुबह तक किताब नहीं लिख पाएगा। अब उसके सामने दो रास्ते थे। सुबह का इंतजार करना या किताब को पूरी करना। इसी बीच सन्यासी ने एक विशेष प्राथना की और इस पूजा के जरिए शैतान को बुलाया। शैतान जैसे ही सन्यासी के सामने प्रकट हुआ तो सन्यासी ने उससे कहा कि अगर शैतान उसकी इस किताब को सुबह होने से पहले पूरी कर देगा तो सन्यासी अपनी आत्मा शैतान को सौंप देगा। शैतान ने सन्यासी की यह बात मान ली और किताब पूरी कर दी। सुबह जैसे ही सन्यासी ने किताब के पन्ने पलटे तो पहले ही पेज पर शैतान की तस्वीर थी। इसके अलावा सूरज और चांद की भी तस्वीरें थी। इसमें स्वर्ग की भी तस्वीरें हैं। इस किताब में भलाई और बुराई को बताया गया है। इस किताब में वर्णन है कि शैतान की पूजा को। शैतान को मानो। शर्त के मुताबिक, सुबह शैतान ने सन्यासी की आत्मा को अपने कब्जे में ले लिया और सुबह जब राजा के लोग आए और उन्होंने जैसे ही किताब को खोला तो कईयों ने अपना दिमागी संतुलन खो दिया और पहले ही दिन से यह किताब चर्चा का विषय बन गई। 

क्योंकि यह बात कोई मानने को तैयार ही नहीं था कि यह एक रात में लिखी गई है। ऐसे में यह धारणा बन गई कि इस किताब को शैतान ने ही लिखा है और इसका नाम रखा गया 'द डेविल बाइबल'। यह किताब शैतानी रास्ते पर ले जाने की प्रेरणा देती है। आज भी यह किताब चेक गणराज्य की एक लाइब्रेरी में सुरक्षित रखी हुई है। 

कमेंट करें
wphNb
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।