comScore

लेबनान हादसा: बेरूत में बंदरगाह पर धमाके में अब तक 113 लोगों की मौत, शहरभर में राहत और बचाव कार्य जारी

लेबनान हादसा: बेरूत में बंदरगाह पर धमाके में अब तक 113 लोगों की मौत, शहरभर में राहत और बचाव कार्य जारी

हाईलाइट

  • 12 सेकंड के धमाके में शहरभर में तबाही का मंजर
  • पोर्ट में भारी मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट थाः इंटीरियर मिनिस्टर

डिजिटल डेस्क, बेरूत। लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए दो जोरदार धमाकों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 113 हो गई है। जबकि 4 हजार से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं। यह जानकारी लेबनान के स्वास्थ्य मंत्री हमाद हसन ने दी। वहीं न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, लेबनान की कैबिनेट ने ब्लास्ट को लेकर अधिकारियों के हाउस अरेस्ट की मांग की है। इस वजह से वहां दो सप्ताह इमरजेंसी जैसे हालात रहेंगे। विस्फोट का कारण अभी स्पष्ट नहीं हुआ है। हादसे के बाद से राहत और बचाव का कार्य किया जा रहा है।   

बता दें कि स्थानीय समयनुसार मंगलवार शाम करीब साढ़े चार बजे राजधानी के बेरूत के एक बंदरगाह पर फायरवर्क का स्टोरेज करने वाली जगह पर एक के बाद एक दो बड़े धमाके हुए। विस्फोट इतने जबदस्त थे कि इसका असर करीब 10 किलोमीटर दूर तक देखा गया। यही नहीं धमाके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर लगभग 4.5 से ज्यादा आंकी गई। धमाके का असर ये हुआ कि कारें तीन मंजिल तक उछल गईं, कई बहुमंजिला इमारतें एक पल में धराशायी हो गईं। बताया जा रहा है कि लगभग आधा शहर तबाह हो गया है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार 113 लोगों की मौत की पुष्टि हुई। ये आंकड़ा बढ़ने की आशंका जताई गई है। वहीं अब तक 4 हजार से ज्यादा लोगों घायल होने की बात सामने आई है।  

12 सेकंड के धमाके में शहरभर में तबाही का मंजर
12 सेकंड के इस धमाके के बाद शहर में चारों ओर तबाही का मंजर है। विस्फोट कैसे हुआ इसकी जानकारी फिलहाल नहीं मिल सकी है और न ही किसी आतंकी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी ली है। इस धमाके में करीब आधा शहर वीरान हो गया है। यहां की सड़कों पर लाशों के चीथड़े बिखरे हैं। पोर्ट के पास के इलाके के घर और बड़ी इमारतें मलबे का ढेर बन चुकी हैं। घायलों को संभालने वाला कोई नहीं है, क्योंकि अस्पतालों को भी बहुत नुकसान पहुंचा है और वहां जगह नहीं बची है। यह घटना ऐसे समय में हुई है जब लेबनान दशकों में अपने सबसे खराब आर्थिक और वित्तीय संकट से गुजर रहा है। इसे लेबनान की दक्षिणी सीमा के करीब इजराइल और आतंकवादी हिज्बुल्लाह ग्रुप के बीच बढ़ते तनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है। 

स्वास्थ्य मंत्री ने सभी अस्पतालों को तैयार रहने के आदेश दिए
लेबनान के स्वास्थ्य मंत्री हमाद हसन ने विस्फोट में घायल हुए लोगों के इलाज के लिए क्षेत्र के सभी अस्पतालों को तैयार रहने को कहा है। सीएनएन के प्रोड्यूसर ने बताया कि बेरूत के अस्पतालों के इमरजेंसी रूम में डॉक्टर दर्जनों घायल लोगों का इलाज कर रहे हैं। कुछ लोगों को कांच से गंभीर चोटें आई है तो वहीं कुछ के अंग टूट गए हैं। अस्पातल में बेड न होने की वजह से कई लोग फर्श पर पड़े हैं।  डॉक्टरों ने उनमें IVs डालने की कोशिश की। जबकि कुछ लोगों को बाहर निकाल दिया गया।

पोर्ट में भारी मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट थाः इंटीरियर मिनिस्टर
इंटीरियर मिनिस्टर ने स्थानीय मीडिया को घटना के बारे में बताया कि पोर्ट में भारी मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट था। लेबनान कस्टम से पूछा जाना चाहिए कि इतनी भारी मात्रा में पोर्ट पर अमोनियम नाइट्रेट क्या कर रहा था? वहीं, दूसरी ओर लेबनान ब्रॉडकास्टर मायाडेन ने कस्टम के निदेशक के हवाले से बताया कि करीब एक टन नाइट्रेट में विस्फोट हुआ है।

स्वास्थ्य मंत्री को रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक से जहाज को उड़ाने का शक
इससे पहले, लेबनान के स्वास्थ्य मंत्री ने मीडिया को बताया कि पूरे देश में धमाके की आवाज सुनी गई है। जिस तरह का ये धमाका है, हमें रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक से जहाज को उड़ाने का शक है। ये जानबूझकर किया गया भी हो सकता है, या फिर वजह कुछ और भी हो सकती है। लेबनान के भारतीय दूतावास ने मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी की।

धमाके में सामने आई तीन बड़ी बातें

  • जॉर्डन की सिस्मोलॉजी ऑब्जरवेटरी के एक्सपर्ट इस धमाके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 तीव्रता के भूकम्प से ज्यादा बता रहे हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है कि धमाके की तीव्रता करीब 1000 टन TNT विस्फोटक के बराबर थी। यह एक छोटे न्यूक्लियर ब्लास्ट जितनी होती है।
  • धमाके बाद आसमान में मशरूम के आकार का बादल बना, जो पहले सफेद था और फिर अचानक नारंगी रंग का हो गया। डेली मेल ने इस बादल को न्यूक्लियर विस्फोट के बादल जैसा बताया है। हालांकि, अभी विस्फोटक के प्रकार की पुष्टि होना बाकी है।
  • विस्फोट एक क्रम में शुरू हुए और लोगों को लगा कि बेरुत पोर्ट के पटाखा गोदाम में आग लगी है। इसके बाद अचानक तेज धमाका हुआ और उसने पूरे शहर को चपेट में ले लिया। धमाके के बाद नाइट्रिक एसिड के बादल भी बने हैं।

 
 

कमेंट करें
Xya1z