comScore

अमेरिकी विदेश मंत्री का गंभीर आरोप, कहा- चीन कोरोनावायरस को रोक सकता था, राष्ट्रपति ट्रंप तय करेंगे सजा


हाईलाइट

  • कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका का चीन पर हमला
  • वायरस को लेकर विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने साधा निशाना

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। कोरोनावायरस को लेकर अमेरिका लगातार चीन को दोषी ठहरा रहा है। दोनों देशों के बीच रिश्तों में दरार आ गई है। इस बीच एक बार फिर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने चीन पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि चीन ने जानबूझकर अपने लोगों को देश से बाहर जाने दिया। उसे अच्छा से पता था कि कोविड-19 फैल सकता है। 

लोग क्यों घूम रहे थे
पोम्पियो ने कहा, 'जब कोरोनोवायरस आ गया था तो लोग क्यों दुनिया में घूम रहे थे। चीन सरकार को इसका जवाब पता होगा। वो अच्छे से जानते थे कि वायरस दूसरी जगह भी फैलेगा।' उन्होंने कहा कि हमने सबसे पहले चीन से फ्लाइट रोकी थी। हालांकि तबतक यूरोप में वायरस फैल चुका था। उसके बाद उन्होंने भी सारी फ्लाइट पर रोक लगाई। 

राष्ट्रपति तय करेंगे चीन को सजा
उन्होंने आगे कहा कि चीन को इसके लिए सजा मिलने का फैसला राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तय करेंगे। बता दें अमेरिका में अबतक 14 लाख 82 हजार 916 मामले सामने आ चुके हैं। जबकि 89 हजार 318 लोग अपनी जान गवा चुके हैं। 

 WHO ने दी चेतावनी, कहा- कभी खत्म नहीं हो सकता कोरोना वायरस

रिसर्च चुराने का भी लगाया आरोप
बता दें इससे पहले माइक पोम्पियो ने चीन पर कोरोनावायरस की वैक्सीन की रिसर्च चुराने का आरोप भी लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि चीन से वायरस का जन्म हुआ है। उसी के कारण दुनियाभर में ये वायरस फैल गया। चीन ने दुनिया को कोविड-19 से जुड़ी जानकारी बताने से इनकार कर दिया, जिस कारण आज से मुश्किल पैदा हुई है। 

कमेंट करें
Oe4H2