दैनिक भास्कर हिंदी: न्यूजीलैंड: हमले के बाद से 9 भारतीय लापता, गोलीबारी करने वाला आतंकी गिरफ्तार

March 16th, 2019

हाईलाइट

  • न्यूजीलैंड: मस्जिदों में हमले के बाद से 9 भारतीय लापता।
  • गुजरात के नवसारी के रहने वाले एक युवक की मौत।
  • गोलीबारी करने वाला आतंकी ब्रेंटन हैरिसन टैरेंट गिरफ्तार।
  • क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में गोलीबारी में हुई 49 लोगों की मौत।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हुए आतंकी हमले के बाद से 9 भारतीय लापता हैं। एक भारतीय की मौत हो गई है, जबकि भारतीय मूल का एक व्यक्ति घायल है। गोलीबारी में गुजरात के नवसारी के रहने वाले एक युवक की मौत हुई है। गोलीबारी करने वाले आतंकी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दें कि इस हमले में कुल 49 लोगों की मौत हुई है और 40 से अधिक लोग घायल हैं। 
 

 

भारतीयों के लापता होने के मामले में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, न्यूजीलैंड में भारतीय उच्चायोग अधिक जानकारी के लिए स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में हैं। अधिकारियों ने बताया, किसी भी प्रकार की सहायता और जानकारी के लिए न्यूजीलैंड में भारतीय उच्चायोग ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। ये हेल्पलाइन नंबर 021803899 और 021850033 हैं। हमले में घायल हुए भारतीयों के परिवारवालों को न्यूजीलैंड के वीजा भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। आपको बता दें कि न्यूजीलैंड में भारतीय मूल के करीब दो लाख लोग रहते हैं। आंकड़ों के अनुसार 30 हजार से अधिक भारतीय छात्र हैं। 
 


गोलीबारी करने वाला आतंकी को कोर्ट में पेश 
मस्जिदों में गोलीबारी करने वाले 28 वर्षीय आतंकी ब्रेंटन हैरिसन टैरेंट को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाद में उसे कोर्ट में पेश किया गया। अदालत ने ब्रेंटन को पांच अप्रैल तक के लिए हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि हमलावर ने लाइव वीडियो बनाते हुए फायरिंग की थी। इसके अलावा अन्य चार लोगों की गिरफ्तारी की भी खबर है। गौरतलब है कि, शुक्रवार को शहर के बाहरी भाग में स्थित लिनवुड मस्जिद और मध्य क्राइस्टचर्च की अल नूर मस्जिद में हमला किया गया था, जिसमें 49 लोगों की मौत हो गई थी। 
 

 

हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूजीलैंड की अपनी समकक्ष को पत्र लिखकर क्राइस्टचर्च में इबादत के स्थान पर गोलीबारी में निर्दोष लोगों की मौत पर दुख प्रकट किया था। पीएम मोदी ने जोर दिया कि, विविधतापूर्ण और लोकतांत्रिक समाज में हिंसा के लिये कोई स्थान नहीं है। विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, प्रधानमंत्री मोदी ने न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न को पत्र लिखा।

न्यूजीलैंड के इतिहास में सबसे काला दिन: अर्डर्न
प्रधानमंत्री अर्डर्न ने इसे हिंसा की एक असाधारण और अभूतपूर्व घटना बताते हुये स्वीकार किया है कि इसमें प्रभावित लोग या तो प्रवासी हैं या फिर शरणार्थी हैं। उन्होंने कहा, यह स्पष्ट है कि इसे केवल आतंकवादी हमला ही करार दिया जा सकता है। हम जितना जानते हैं, ऐसा लगता है कि यह पूर्व नियोजित था। प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने इस हमले को न्यूजीलैंड के इतिहास में सबसे काला दिन बताया है। 

खबरें और भी हैं...