comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

BRICS शिखर सम्मेलन में शामिल होंने PM मोदी ब्रासीलिया पहुंचे,पुतिन-जिनपिंग से होगी मुलाकात


हाईलाइट

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे
  • मंगलवार को हुए ब्राजील के लिए रवाना
  • 13-14 नवंबर को है ब्रिक्स सम्मेलन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। ब्राजील के ब्रासीलिया में 13-14 नवंबर को हो रहे 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार दोपहर रवाना हुए। आज (बुधवार) पीएम मोदी शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे।

ब्राजील रवाना होने से पहले उन्होंने कहा कि वह ब्रिक्स सहयोग को और मजबूत करने के उद्देश्य से अन्य ब्लॉक नेताओं के साथ विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए उत्सुक हैं। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के मौके पर, मैं ब्रिक्स व्यापार मंच को संबोधित करूंगा और ब्रिक्स व्यापार परिषद के साथ-साथ न्यू डेवलपमेंट बैंक के साथ बातचीत करूंगा। आर्थिक संबंधों में सुधार ब्रिक्स देशों के लिए अच्छी तरह से बढ़ा है। 

वहीं पीएम मोदी की रूस के राष्ट्रपति व्यादिमिर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग से मुलाकात करेंगे। आज मोदी की ब्राजील के राष्ट्रपति जायर मेसियस बोल्सनारों से भी मिलने की उम्मीद है। यह छठी बार है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग ले रहे हैं।  बता दें ब्रिक्स पांच उभरती बड़ी अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका का समूह है। ब्रिक्स समूह का पहला औपचारिक शिखर सम्मेलन येकतेरिनबर्ग रूस में 14 जून 2009 में हुआ था। जिसका मुद्दा 'वैश्विक आर्थिक स्थिति और वित्तीय संस्थाओं में सुधार' था। 

कैसे हुई ब्रिक्स की शुरुआत 

ब्रिक्स की चर्चा साल 2001 में अर्थशास्त्री जिम ओ नील द्वारा ब्राजील, रूस, भारत और चीन की अर्थव्यवस्थाओं के लिए विकास की संभावनाओं पर एक रिपोर्ट में की गई थी। साल 2006 में चार देशों ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की सामान्य बहस के अंत में विदेश मंत्रियों की वार्षिक बैठकों के साथ एक नियमित अनौपचारिक राजनयिक समन्वय शुरू किया। पहला BRIC शिखर सम्मेलन साल 2009 में रूस के येकतेरिनबर्ग में हुआ। दिसंबर 2010 में दक्षिण अफ्रीका को ब्रिक में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया और इसे BRICS (ब्रिक्स) कहा जाने लगा। 

अबतक हुए ब्रिक्स शिखर सम्मेलन :

  • 14 जून 2009 - रूस (येकतेरिनबर्ग)
  • 16 अप्रैल 2010 - ब्राजील (ब्रासीलिया)
  • 14 अप्रैल 2011 - चीन (सान्या)
  • 29 मार्च 2012 - भारत (नई दिल्ली)
  • 26-27 मार्च 2013 - दक्षिण अफ्रीका (डरबन)
  • 14-16 जुलाई 2014 - ब्राजील (फोर्टलीजा)
  • 8-9 जुलाई 2015 - रूस(ऊफा)
  • 15-16 जुलाई 2016 - भारत (गोवा)
  • 3-5 सितंबर 2017 - चीन(श्यामन)
  • 25-27 जुलाई 2018 दक्षिण अफ्रीका (जोहान्सबर्ग)
कमेंट करें
pOFh4
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।