रुस-यूक्रेन युद्ध: युद्ध में यूक्रेन को टक्कर देगा रुस का ये विशालकाय इंसान, पूरी दुनिया मान चुकी है इसकी ताकत का लोहा

October 2nd, 2022

हाईलाइट

  • 7 फीट लंबे और लगभग 150 किलो वजन के हैं निकोलाई

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इस साल फरवरी से शुरु हुई रुस और यूक्रेन बीच जंग अभी भी जारी है। इस दौरान रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने देश में रिजर्व सैनिकों को तैनात करने का आदेश दिया है। इस आदेश के अनुसार सेना के साथ ही पूर्व सैनिक और आम नागरिकों को भी यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में भाग लेने के लिए बुलाया जा रहा है। इस बीच खबर आ रही है रुस की सरकार ने युद्ध में शामिल होन के लिए पूर्व विश्व हैवीवेट चैंपियन निकोलाई वैल्यूव को भी बुलावा भेजा है। 

जानकारी के मुताबिक 49 साल के निकोलाई ने रुसी सरकार के इस बुलावे को स्वीकार करते हुए सेना में शामिल होने के लिए नामांकन भी भर दिया है। 7 फीट लंबे और लगभग 150 किलो वजन के निकोलाई को विश्व के सबसे ताकतवर बॉक्सर के रुप में जाना जाता है। इससे पहले एमएमए चैंपियन रह चुके रुसी रेसलर व्लादिमीर माइनेव का भी सेना में शामिल होने के लिए सामने आया था, लेकिन इस बात की अभी पुष्टि नहीं हो पाई है। 

दो बार वर्ल्ड चैंपियन रह चुके हैं निकोलाई वैल्यूव 

निकोलाई अपना पहला वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियन का खिताब 2005 में जीता था। वह दो बार यह खिताब अपने नाम कर चुके हैं। अपनी ताकत के लिए उन्हें बीस्ट फ्रॉम द ईस्ट के नाम से भी पुकारा जाता है। निकोलाई वैल्यूव बॉक्सिंग के लीजेंड कहे जाने वाले इवांडर होलीफील्ड के खिलाफ भी अपने बेल्ट का बचाव कर चुके हैं। निकोलाई ने अपनी फिटनेस समस्याओं के चलते बॉक्सिंग रिंग को अलविदा कह दिया था। 


युद्ध में शामिल होने की बात पर इस पूर्व चैंपियन ने कहा कि यूक्रेन के साथ जारी जंग में उनहें शामिल होने के बुलाया गया था। उनके अनुसार, मेरी नजर में युद्ध में हिस्सा लेने के सभी के जैसे मुझे भी बुलाया गया है। मैं सेना में शामिल होने के लिए नामांकन ऑफिस जाऊंगा। बात दें कि बॉक्सिंग रिंग से रिटायरमेंट लेने के बाद निकालोई ने राजनीति में उतरने का फैसला ले लिया। वह रुढ़िवादी रुस पार्टी से सांसद भी चुने गए थे। 

दोनों देशों के बीच फिर बढ़ा तनाव

दोनों के बीच जंग का अंत होते नजर नहीं आ रहा है। लुहान्स्क, खेरसॉन नियंत्रित जापोरिज्जिया और डोनेट्स्क क्षेत्रों को रुस द्वारा अधिकार जमाने पर दोनों देशों के बीच महौल और तनावपूर्ण हो गया है। रुस ने इन क्षेत्रों में जनमत संग्रह करवाकर अपना दावा ठोक दिया है। इसके साथ रुसी राष्ट्रपति पुतिन ने कहा है कि रुस में शामिल किए गए इन नए इलाकों की हर कीमत पर रक्षा की जाएगी। उन्होंने यूक्रेन को साफ शब्दों में कहा है कि वो शांति वार्ता के तैयार हैं लेकिन वह इन चार इलाकों को वापस किए जाने पर कोई चर्चा नहीं करेंगे। 

खबरें और भी हैं...