दैनिक भास्कर हिंदी: विश्व योग दिवस: त्रिकोणासन बढ़ाएगा आपका आकर्षण

September 6th, 2018

डिजिटल डेस्क, भोपाल। गुरुवार (21 जून) को पूरी दुनिया में इंटरनेशनल योग दिवस मनाया जाएगा। ये भारत के लिए बेहद गर्व की बात है कि जिस परंपरा को लोग भूल गए थे, उसे आज पूरी दुनिया में सराहा जा रहा है। भारत में योग को स्वस्थ रहने की लगभग 5 हजार साल पुरानी मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक पद्धति के रूप में मान्यता प्राप्त है और ये हमारे देश के लोगों की जीवनचर्या का हिस्सा है। योग की शक्ति की लोगों ने पहचाना और साल 2014 में 21 जून को योग के नाम कर दिया। ये पीएम नरेन्द्र मोदी की कोशिशों का नतीजा है। 

 

पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में 27 सितंबर, 2014 को दुनियाभर में योग दिवस मनाने का आह्वान किया था। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की घोषणा भारत के लिए एक महान क्षण था क्योंकि संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्रस्ताव आने के मात्र तीन माह के भीतर इसके आयोजन का ऐलान कर दिया। महासभा ने 11 दिसंबर, 2014 को ये ऐलान किया कि 21 जून का दिन दुनिया में योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा। ये दुनियाभर के लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य तथा आध्यात्मिक संतोष के विकास का अनुपम अवसर था। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन का दुनिया के लगभग सभी देशों ने समर्थन किया और दुनिया के 170 से ज्यादा देशों के लोग 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाते हैं और योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाने का संकल्प लेते हैं। पूरे विश्व में इस दिन योग के फायदों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिये योग प्रशिक्षण शिविर, योग प्रतियोगिता और सामूहिक योगाभ्यास किया जाता है। 

 

इससे पहले हम कई बार आपको योगासनों के बारे बता चुके हैं जो आपके स्वास्थ्य का ध्यान रखते है। आज हम आपको आपकी खूबसूरती बढ़ाने वाले एक आसन के बारे में बताएंगे। 

 

त्रिकोणासन खड़े होकर किए जाने वाला एक महत्वपूर्ण आसन है। त्रिकोणासन का अर्थ होता है शरीर को त्रिकोण की आकृति में रखना। त्रिकोणासन का अभ्यास सुंदर तन और ग्लोविंग स्किन के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इस आसन से शरीर तो सुडौल बनता ही है साथ ही इससे कमर के दर्द में भी राहत मिलती है। तो आइए पहले जानते हैं इस आसन के बारे में...
 

 

त्रिकोणासन के फायदे-

त्रिकोणासन साफ त्वचा के लिए: इस आसन का नियमित अभ्यास करने से आप त्वचा संबंधी प्रॉब्लम्स से बच जाते हैं।

त्वचा पर बार-बार दाने एवं मुंहासे निकलने की समस्या दूर हो जाती है और चेहरे को चमकदार बनाता है।

त्रिकोणासन पेट की चर्बी के लिए: परिवर्तित त्रिकोणासन अभ्यास करने से पेट की चर्बी को बहुत सरलता के साथ कम किया जा सकता है।

त्रिकोणासन हाइट बढ़ाने के लिए: इसके रेगुलर अभ्यास से आपके हाइट बढ़ती है और आप अपना मन चाहा कद पा सकते हैं।

 

त्रिकोणासन फेफड़े के लिए: इसके अभ्यास से  आप अपने फेफड़े में ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन लेते हैं और लंग्स की सही एक्सरसाइज हो जाती है।

 

 

त्रिकोणासन करने की विधि-


- सीधे खड़े होकर दोनों पैरों को तीन से चार फीट तक फैलाएं।

 

- अपने अपने दोनों हाथों को कंधों की सीध में फैलाएं।

 

- अब सांस भीतर खींचते हुए अपने सीधे हाथ को सिर के ऊपर ले जाते हुए कान से मिलाएं।

 

- अब सांस बाहर को छोड़ते हुए अपने शरीर को बाईं ओर झुकाएं। इस दौरान पैरों को न मुड़ने दें और हाथों की अवस्था न बदलें।

 

- अब कुछ देर झुके रहने के बाद सीधे खड़े हों और हाथों को कंधों के समानांतर फैलाए रखें।

 

- अब सांस भीतर खींचते हुए बांए हाथ को सिर के ऊर ले जाएं और कान से मिलाएं।

 

- अब सांस बाहर निकालते हुए दाहिनी ओर शरीर को झुकाएं। इस दौरान पैरों को न मुड़ने दें और हाथों की अवस्था न बदले।

 

- अब कुछ देर झुके रहने के बाद सीधे खड़े हो जाएं। इस प्रकार त्रिकोणासन का एक चक्र पूरा हुआ। इसे आप रोज दो -तीन चक्र से शुरू कर सकते हैं।