comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

आठ दिन से भूखी थी बच्चियां, कुपोषण से हुई मौत ! सरकारी योजनाओं पर उठ रहे सवाल

July 26th, 2018 17:30 IST

हाईलाइट

  • गरीबी के कारण आठ दिनों से भूखी तीन मासूम बच्चियोंं की जान चली गई।
  • यह मामला दिल्ली के ही मंडावली इलाके से सामने आया है।
  • यहां एक ही परिवार की 3 नाबालिग बच्चियों की मौत हो गई है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बच्चियों की मौत में एक नया खुलासा हुआ है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक तीनों बच्चियों की मौत भूखे रहने की वजह से हुई है। डॉक्टरों के मुताबिक बच्चियों के शरीर में पोस्टमॉर्टम के दौरान खाने का एक अंश भी नहीं मिला है। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक बच्चियों को आठ दिन से खाने के लिए कुछ भी नहीं दिया गया था। जिसकी वजह से वो कुपोषण का शिकार हो गई थी।  पुलिस ने आठ साल की मानसी, चार साल की शिखा और दो साल की पारुल का शव मंडावली में एक कमरे से बरामद किया था।

जानकारी के मुताबिक पड़ोसियों की मदद से बच्चियों की मां वीणा ने उन्हें रिक्शे से लेकर लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल पहुंची। रास्ते में तीनों बच्चियां बेहोश हो गई। अस्पताल में जब डॉक्टर ने जांच की तो तब तक सभी की मौत हो गई थी।

इस मामले में दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी साझा की है। उन्होंने में लिखा "मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था." सिसोदिया ने बताया कि घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं, मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं। 

भले ही इस मामले को लेकर दिल्ली सरकार ने  मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं, लेकिन इन बच्चियों की मौत से सरकारी योजनाओं पर सवाल उठ रहे है। राजनीतिक पार्टियां सरकार पर सीधा हमला बोलते हुए ट्वीट के जरिए सवाल पूछ रही है कि आखिर जिम्मेदार कौन? कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर सीधे उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछा "सच बताना क्या इसे रोका नहीं जा सकता ? बस इतना याद रखना, जब आप सरकारी पैसे से नई कार बुक कर रहे थे, तब आपके इलाके के ये बच्चे भूख से तड़प रहे थे सर'

दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है। उन्होंने ने ट्वीट लिखा "3 बेटियों की मौत वो भी भूख के कारण...मनीष सिसोदिया ये आपके एरिया में हुआ है ...देश की राजधानी दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार में आज भी आम आदमी की भूख के कारण मौत हो रही है... शर्म करो अरविंद केजरीवाल"


दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने मृत बच्चियों के मामले में एक किया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा "दिल्ली के मंडावली में तीन बच्चों की भूख से मौत। पोस्ट-मॉर्टम LBS हास्पिटल से शिफ़्ट कर GTB हास्पिटल में मन मुताबिक़ रिपोर्ट बनाने की कोशिश के लिए हो रहा है...इस परिवार का राशन कार्ड भी नहीं है...दिल्ली में कांग्रेस के समय 33.5 की जगह मात्र 15 लाख राशन कार्ड ही रह गए हैं।"

परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं 

परिवार मूल रूप से पश्चिम बंगाल का रहने वाला बताया जा रहा है, जो मंडावली थाना क्षेत्र के मदरसे वाली गली में रहता है। परिवार में मां वीणा देवी, पिता मंगल और तीन बच्चियां थी। मंडावली में यह परिवार किराए के मकान में रहता है। वीणा का पति मंगल किराए पर रिक्शा चलाता है। कुछ दिन पहले उसका रिक्शा चोरी हो गया था। जिसके वजह से मकान मालिक ने पूरे परिवार को घर से निकाल दिया था, क्योंकि रिक्शा मकान मालिक का ही था। परिवार की स्थिति आर्थिक रूप से बिगड़ चुकी थी। मंगलवार सुबह मंगल काम ढूंढने की बात कहकर घर से निकला और तीनों बच्चियों के साथ वीणा देवी घर पर थीं। इन बच्चियों की मां वीणा की हालत मानसिक रूप से ठीक नहीं है। उसके मुताबिक बच्चियों को कई दिन से उल्टियां आ रही थीं इसलिए खाना नहीं दिया।  वीणा ने बताया कि उन्होंने (बच्चियों) कई दिन से खाना नहीं खाया था। उनको उल्टी और खांसी हो रही थी। तीनों बच्चियों को दोपहर के वक्त अचानक उल्टी-दस्त होने लगे।

पिता अभी तक फरार है

घटना के दिन से ही बच्चियों का पिता मंगल फरार है। सुबह घर से निकलने के बाद मंगल अब तक वापस नहीं लौटा है। पुलिस ने मृत बच्चों के पिता की तलाश शुरू कर दी है।

कमेंट करें
Ovq15
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।