दैनिक भास्कर हिंदी: नगर निगमों के बाद, अब भाजपा रायशुमारी से तय करेगी दिल्ली संगठन में फेरबदल

June 21st, 2020

हाईलाइट

  • नगर निगमों के बाद, अब भाजपा रायशुमारी से तय करेगी दिल्ली संगठन में फेरबदल

नई दिल्ली, 21 जून (आईएएनएस)। दिल्ली में नगर निगम के लिए उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा अब दिल्ली में संगठनात्मक फेरबदल करने की तैयारी में है। इसके लिए पार्टी हाईकमान ने भाजपा के दो वरिष्ठ अधिकारियों को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। पार्टी हाईकमान की ओर से यह जिम्मेदारी राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह और महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया रहाटकर को सौंपी गई है। ये दोनों नेता दिल्ली भाजपा के नेताओं के साथ इस मसले पर रायशुमारी करेंगे और संगठन के लिए नेता का चुनाव करेंगे।

दिल्ली भाजपा में नेताओं की गुटबाजी को खत्म करने के उद्देश्य से पार्टी हाईकमान ने रायशुमारी का फैसला लिया है। गौरतलब है कि महापौर और निगमों के अन्य पदों के लिए भी रायशुमारी कराई गई थी। इसी तरह से पार्टी संगठन को लेकर भी स्थानीय नेताओं से सुझाव मांगे गए हैं। पार्टी के दोनों बड़े नेता अलग-अलग पार्टी नेताओं से फोन द्वारा संपर्क करेंगे उनसे संभावित दावेदारों की सूची मांगेंगे।

इस बीच महिला मोर्चा अध्यक्ष और दिल्ली में रायशुमारी की जिम्मेवारी संभाल रही विजया रहाटकर ने आईएएनएस से कहा है, सभी महत्वपूर्ण लोगों और कार्यकर्ताओं से बात की जायेगी। इसके लिये वे व्यक्तिगत तौर पर भी पार्टी नेताओं से मिलकर राय लेंगी। लेकिन उन्होंने साफ किया कि इस महीने दिल्ली की टीम का चयन हो जायेगा।

सूत्रों के मुताबिक टीम के चयन में जाति और क्षेत्रीय समीकरण का पूरा ध्यान रखने को कहा गया है। साथ ही संगठन में पुराने और अनुभवी नेताओं के साथ-साथ नए चेहरों को भी संगठन में लाने को कहा गया है। दिल्ली प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी के बाद , पार्टी संगठन में पूर्वांचल के लोगों को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दिये जाने की बात कही जा रही है। ऐसे में पूर्वांचल के किसी नेता को महामंत्री बनाया जा सकता है। इस दौर में विधायक अजय वर्मा और कपिल मिश्रा का नाम लिया जा रहा है।

ध्यान रहे कि वैश्य समाज से प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी सभी वर्गो को साधने की कोशिश में है , ताकि आगे आने वाले नगर निगमों के चुनाव में इसका सकारात्मक असर पड़े। साथ ही पार्टी यह भी सुनिश्चित कर लेना चाहतीं है कि निगम चुनाव से पहले रायशुमारी का फार्मूला फिट बैठे और कार्यकर्ता को पृरी निष्ठा से काम करने की प्रेरणा मिले।