दैनिक भास्कर हिंदी: एम्स के डॉक्टर्स की अनिश्चितकालीन हड़ताल, मरीजों को हो रही परेशानी

April 27th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। नई दिल्ली के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के डॉक्टर्स अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। जिससे मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल बुधवार को एम्स के आरपी सेंटर के प्रमुख डॉक्टर अतुल कुमार ने रेजिडेंट डॉक्टर को थप्पड़ मार दिया था। इसी के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन हड़ताल पर बैठ गए हैं। बताया जा रहा है कि हड़ताल शुरू करने से पहले रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया के साथ बैठक कर बात-चीत की थी। पर यह बैठक बेनतीजा रही, जिसके बाद एसोसिएशन ने हड़ताल पर जाने की घोषणा कर दी और सभी डॉक्टर्स हड़ताल पर बैठ गए।

मामले को लेकर जब रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष से बात की गई तो उन्होंने बताया कि, 'हम केवल आपातकालीन और आईसीयू सेवाओं को बनाए रखेंगे। ये हड़ताल तब तक जारी रहेगा जब तक आरोपी डॉक्टर को उनके पद से हटाया नहीं जाता है।'
 


रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. हरजीत सिंह भाटी ने बताया कि आरपी सेंटर के प्रमुख डॉ. अतुल कुमार राउंड पर थे उसी दौरान किसी बात को लेकर उन्होंने रेजिडेंट डॉक्टर को थप्पड़ मार दिया। इस दौरान वहां पर मरीज, नर्सिंग स्टॉफ, सहकर्मियों के साथ ही अन्य लोग मौजूद थे। घटना के बाद पीड़ित काफी डर गया और घर चला गया। वहां मौजूद अन्य सहकर्मियों ने घटना की सूचना अन्य डॉक्टर्स को दी और धीरे-धीरे पूरे संस्थान में फैल गई।
 


एम्स प्रशासन ने हड़ताल को बताया गैरकानूनी

वहीं इस पूरे घटनाक्रम को लेकर एम्स प्रशासन ने एक प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि बातचीत के बावजूद रेजिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल गैरकानूनी है। ऐसे में अब सभी सर्जरी कैंसल कर दी गई हैं और पढ़ाई और एग्जाम जैसे एकेडमिक कार्य अगले आदेश तक ठप रहेंगे। एम्स निदेशक ने जल्द से जल्द हड़ताल खत्म करने की मांग की है।

मरीजों को करना पड़ रहा परेशानियों का सामना 

वहीं डॉक्टर्स की हड़ताल से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस हड़ताल का सबसे ज्यादा असर ओपीडी में देखने को मिल रहा है, जहां डॉक्टर्स और उनके परिजनों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।