comScore

Mob Lynching: असम में तीन बांग्लादेशी नागरिकों की पीट-पीट कर हत्या, पशु चोरी करने के लिए बॉर्डर पार की थी

July 19th, 2020 17:05 IST
Mob Lynching: असम में तीन बांग्लादेशी नागरिकों की पीट-पीट कर हत्या, पशु चोरी करने के लिए बॉर्डर पार की थी

हाईलाइट

  • असम में 3 बांग्लादेशी नागरिकों की शनिवार रात स्थानिय लोगों ने हत्या कर दी
  • पशु चोरी करने के लिए तीनों बांग्लादेशी नागरिकों ने बॉर्डर पार की थी
  • तीनों नागरिकों के पास से रस्सी, फेंस-कटर और तार बरामद किए

डिजिटल डेस्क, दिसपुर। असम के करीमगंज जिले में अवैध रूप से सीमा पार कर घुसे तीन बांग्लादेशी नागरिकों की शनिवार रात स्थानिय लोगों ने हत्या कर दी। तीनों बांग्लादेशी नागरिकों की गाय चोरी के शक में हत्या की गई है। तीनी बांग्लादेशियों के पास से खाद्य पदार्थों के अलावा एक रस्सी, फेंस-कटर और तार बरामद किए गए हैं। इससे पहले 1 जून को भी करीमगंज में उसी क्षेत्र में एक 42 वर्षीय बांग्लादेशी व्यक्ति की पशु चोरी के शक में को ग्रामीणों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।

क्या कहा करीमगंज के एसपी ने?
करीमगंज के एसपी कुमार संजीत कृष्णा ने एक लिखित बयान में कहा, 'पठारकंडी पुलिस स्टेशन के तहत बोगरिजन चाय एस्टेट में कुछ अज्ञात बदमाशों ने कल रात तीन अज्ञात बांग्लादेशी नागरिकों की हत्या कर दी।' कृष्णा ने कहा कि पूछताछ में यह पता चला है कि इन बांग्लादेशी नागरिकों ने बोगरिजन क्षेत्र से गायों को चुराने के मकसद से सीमा पार की थी। पुलिस ने कहा कि मृत लोगों के पास से खाद्य पदार्थों के अलावा एक रस्सी, बाड़-कटर और तार बरामद किए गए हैं। शवों को सौंपने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

जंगलों और चाय के बागानों से भरा इलाका
अधिकारियों ने कहा कि करीमगंज के इस हिस्से में सीमावर्ती क्षेत्र घने जंगलों और चाय के बागानों से भरा है। 1 जून को भी, एक 42 वर्षीय बांग्लादेशी व्यक्ति की पशु तस्कर होने के शक में करीमगंज में उसी क्षेत्र में ग्रामीणों ने हत्या कर दी थी। दरअसल, छह तस्करों - चार बांग्लादेशियों और दो भारतीयों के ग्रुप ने भारत-बांग्लादेश सीमा से कुछ किलोमीटर दूर स्थित पुटनी टी एस्टेट में एक घर से गायों को चुराने की कोशिश की थी।

पिछले साल अगस्त में भी करीमगंज में भारत-बांग्लादेश सीमा पर सीमा सुरक्षा बल (BSF) की मुठभेड़ में एक बांग्लादेशी पशु तस्कर को गोली लग गई थी। बीएसएफ और पुलिस ने तब कहा था कि यह घटना तब हुई जब 30 से अधिक बांग्लादेशी गायों की चोरी और तस्करी करने के लिए भारत में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे थे।

कमेंट करें
ACvay