comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

दत्तक पुत्री नमिता ने दी पिता अटलजी को मुखाग्नि, यूपी की नदियों में विसर्जित होंगी अस्थियां


हाईलाइट

  • भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, सम्मानीय राजनेता, महान कवि, पत्रकार और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का गुरुवार को निधन हो गया।
  • वाजपेयी जी का अंतिम संस्कार राजधानी दिल्ली के स्मृति स्थल (राजघाट और विजयघाट के पास) में किया गया।
  • वैदिक मंत्रोच्चार के बीच अटलजी को दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने मुखाग्नि दी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय राजनीति का एक जगमगाता सूरज अस्त हो गया। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, सम्मानीय राजनेता, महान कवि, पत्रकार और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का गुरुवार को निधन हो गया था। उन्होंने एम्स में 5 बजकर 5 मिनट पर अंतिम सांस ली। 93 साल के अटलजी लंबे वक्त से बीमार थे और 2009 से व्हीलचेयर पर थे। वाजपेयी जी का अंतिम संस्कार राजधानी दिल्ली के स्मृति स्थल (राजघाट और विजयघाट के पास) में किया गया। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच अटलजी को दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने मुखाग्नि दी। इससे पहले जिस तिरंगे को अटलजी के शरीर पर चढ़ाया गया था, उसे उनकी नातिन निहारिका को सौंपा गया।


बता दें कि शुक्रवार सुबह को ही तिरंगे में लिपटे हुए अटलजी के पार्थिव शरीर को दिल्ली स्थित उनके घर 6 A कृष्णा मेनन मार्ग से भाजपा कार्यालय लाया गया था। यहां उनके पार्थिव शरीर को दर्शन के लिए रखा गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी चीफ अमित शाह और गृहमंत्री राजनाथ सिंह कार्यालय में मौजूद रहे। रास्ते में लोगों की काफी भीड़ लगी रही। लोग आखिरी बार अटलजी के अंतिम दर्शन करने सड़क के दोनों तरफ खड़े थे। इसके बाद उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई।

शुक्रवार की दोपहर 2 बजे से वाजपेयी जी की अंतिम यात्रा शुरू हुई, जो दीन दयाल मार्ग से डीडीयू मार्ग, बहादुरशाह ज़फर मार्ग, नेताजी सुभाष मार्ग, निषादराज मार्ग, रिंग रोड और फिर राजघाट के सामने से होते हुए स्मृति स्थल पहुंची। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी चीफ अमित शाह अंतिम यात्रा के साथ पैदल चलते रहे। भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी। पाकिस्तान के कानून मंत्री सैयद अली जफर भी अंतिम संस्कार में पहुंचे। आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, नेवी चीफ एडमिरल सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख बिरेंद्र सिंह धनोआ ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी। अटल जी की अंतिम यात्रा पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा।

UPDATES....
 

9.25 PM : RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- अटलजी के रूप में हमने एक अच्छा स्वंयसेवक खोया है। यह हम सबके लिए बड़ी हानि है।

6.42 PM : भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी की अस्थियों को उत्तर प्रदेश की सभी नदियों में विसर्जित की जाएंगी। इन नदियों में प्रमुख गंगा, यमुना, ताप्ती, चंबल, घाघरा आदि हैं।

6.23 PM : पीएम मोदी ने कहा- अटलजी आप हमेशा प्रत्येक भारतीय के दिल और दिमाग में जिंदा रहेंगे।

5.12 PM : अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई, पाकिस्तान के कानून मंत्री सैयद अली जफर, नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावाली और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी अटलजी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

04.56 PM  : अटल जी को उनकी दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने मुखाग्नि दी।


04.40 PM  : अटल जी की बेटी नमिता और नातिन अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी कर रही हैं।
04.38 PM  : अटल जी के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू। मंत्रोच्चार किया जा रहा है।
04.30 PM  : पार्थिव शरीर पर लिपटे तिरंगे को उनकी नातिन निहारिका को सौंपा गया।

4.40 PM : उनके भतीजे, भांजे और रिश्तेदारों ने धार्मिक क्रियाएं पूरी की
4.40 PM : अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरु
4.35 PM : अटल जी को अर्थी पर रखा गया।

4.29 PM : पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी अंतिम विदाई देने पहुंचे।


04.25 PM  : बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी।


04.19 PM  :भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक ने अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी।


04.15 PM  : पाकिस्तान के कानून मंत्री सैयद अली जफर भी अंतिम संस्कार में पहुंचे।
04.00 PM  :आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत, नेवी चीफ एडमिरल सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख बिरेंद्र सिंह धनोआ ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी।


03.55 PM  : फ्रांस ने स्टेटमेंट जारी किया। कवि, राजनीतिक और दूरदर्शी अटल जी भारत पर अपनी छाप छोड़ गए। उनका नाम भारत और फ्रांस की दोस्ती के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने दोनों देशों को 1998 से एक सूत्र के रूप में बांधे रखा।
03.50 PM  : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएण मनीष सिसौदिया, छत्तीसगढ़ सीएण रमन सिंह, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, अशोक गहलोत और राज बब्बर स्मृति स्थल पहुंचे।
03.45 PM  : अंतिम संस्कार देखने के लिए आम लोगों को भी एंट्री दी गई है।
03.40 PM  : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह स्मृति स्थल पहुंचे।
03.35 PM  : राजघाट के करीब राष्ट्रीय समाधि स्थल पर अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही है।


03.28 PM  : प्रधानमंत्री मोदी, अमित शाह और भाजपा के दिग्गज नेता पार्थिव शरीर वाले ट्रक के ठीक पीछे चल रहे हैं।
03.20 PM  : दिल्ली स्थित ब्रिटिश उच्चायोग ने अटलजी के सम्मान में अपना झंडा यूनियन जैक आधा झुका दिया।
03.10 PM  : अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम लगा हुआ है। उनकी अंतिम यात्रा दरियागंज से गुजर रही है।
03.00 PM  : अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे, वे अटलजी के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे।
02.35 PM  : अंतिम यात्रा में हजारों की भीड़ साथ चल रही है, लोग अटल अमर रहें के नारे लगा रहे हैं।
02.00 PM  : अटल जी की अंतिम यात्रा भाजपा मुख्यालय से निकली राजघाट के पास अंतिम संस्कार स्थल के लिए निकली। 
01.00 PM  : श्रीलंका के कार्यवाहक विदेश मंत्री लक्ष्मण किरिल्ला दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे, वे अटलजी के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे।
11.30 AM  : भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे।
11.20 AM  : केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने अटलजी को श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
11.14 AM  : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अटल जी को श्रदांजलि अर्पित की।
08.50 AM  : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अटलजी के दिल्ली स्थित निवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की।
08.42 AM  : भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने वायपेयीजी को श्रद्धा सुमन अर्पित किए।  
08.35 AM  : नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा ने अटल बिहारी वायपेयी को श्रद्धांजलि दी।
08.10 AM : RSS प्रमुख मोहन भागवत ने अटलजी को श्रद्धांजलि अर्पित की।
08.05 AM (शुक्रवार)  : जावेद अख्तर और शबाना आजमी अटल जी के घर पहुंचे।

कमेंट करें
mF26o
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।