दैनिक भास्कर हिंदी: अमूल्या लियोना की न्यायिक हिरासत बढ़ी, ओवैसी के सामने लगाए थे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे

March 1st, 2020

हाईलाइट

  • अमूल्या लियोना की न्यायिक हिरासत बढ़ी
  • बेंगलुरु कोर्ट ने न्यायिक हिरासत को पांच मार्च तक बढ़ाया
  • अमूल्या लियोना पर पाकिस्तान जिंदाबाद नारे लगाने का आरोप

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरु। असदुद्दीन ओवैसी की रैली में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली अमूल्या लियोना (Amulya Leona) की मुसीबत बढ़ गई है। बेंगलुरु कोर्ट (Bengaluru Court) ने लियोना की न्यायिक हिरासत को पांच मार्च तक बढ़ा दिया है। बता दें बीते 20 फरवरी को असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की रैली में नारे लगाने के बाद अमूल्या के खिलाफ आईपीसी की धारा 124ए के तहत केस दर्ज किया गया और उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था।

ओवैसी के मंच से लगाया था नारा
‘संविधान बचाओ’ के बैनर तले बेंगलुरू में सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। आयोजकों ने जब अमूल्या को मंच पर संबोधन के लिए बुलाया तो उसने लोगों से अपील की वह उसके साथ ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए।  इस दौरान मंच पर असदुद्दीन ओवैसी भी मौजूद थे। अमूल्या के ऐसा करते ही ओवैसी और आयोजकों ने तुरंत उससे माइक छीन लिया, वहीं अन्य लोगों ने उसे मंच से नीचे उतारने की कोशिश की। इन सबके बावजूद वह लगातार नारे लगाती रही। लिहाजा आयोजकों ने तुरंत पुलिस को बुलाया। पुलिस ने हस्तक्षेप कर उसे मंच से नीचे उतारा और हिरासत में लेकर थाने ले गई।

उपराज्यपाल के सलाहकार फारूक खान का दावा- एक समय 100 फीसदी हिंदू राज्य था कश्मीर

भारत जिंदाबाद था, जिंदाबाद है और रहेगा
ओवैसी ने भी अमूल्या की इस हरकत की निंदा की थी। उन्होंने कहा था कि न तो मेरा और न ही मेरी पार्टी काअमूल्या लियोना से कोई संबंध है। आयोजकों को उसे नहीं बुलाना चाहिए था। अगर मुझे पता होता कि ऐसा होगा तो मैं यहां नहीं आता। हम भारत के लिए हैं और किसी भी तरीके से अपने दुश्मन राष्ट्र पाकिस्तान का समर्थन नहीं करेंगे। हमारा मकसद देश बचाने के लिए है। उन्होंने कहा कि हमारे लिए भारत जिंदाबाद था और जिंदाबाद रहेगा।