दैनिक भास्कर हिंदी: बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर को गोली मारने का आरोप, 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जीतू फौजी

December 10th, 2018

हाईलाइट

  • बुलंदशहर हिंसा में आरोपी जवान जितेंद्र मलिक पर विवाद बढ़ता जा रहा है।
  • शनिवार को जितेंद्र मलिका उर्फ जीतू फौजी का भाई भी उसके बचाव में उतर आया है।
  • जीतू फौजी पर इंस्पेक्टर सुबोध सिंह पर गोली चलाने का आरोप है।

डिजिटल डेस्क, बुलंदशहर। बुलंदशहर हिंसा के दौरान हुई इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या के आरोपी जीतू फौजी को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। रविवार को कोर्ट ने सुनवाई के दौरान यह फैसला सुनाया। इससे पहले शनिवार को जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू को 22 राष्ट्रीय राइफल्स ने हिरासत में लेकर यूपी पुलिस को सौंप दिया था। वहीं जीतू के भाई धर्मेंद्र मलिक का कहना है कि उनके भाई को इस मामले में जबरन फंसाया जा रहा है। धर्मेंद्र मलिक ने कहा कि पुलिस साजिश के तहत उसके भाई को फंसा रही है, जबकि जीतू बेगुनाह है।

शनिवार को मीडिया से बात करते हुए धर्मेंद्र ने कहा, 'मेरे भाई को किसी साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। वह इंस्पेक्टर की हत्या में शामिल नहीं है। मेरे पास इसे साबित करने के लिए सबूत भी मौजूद है। मेरे पास यह सबूत है कि मेरा भाई हिंसा के वक्त वहां मौजूद नहीं था। मैं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से विनती करता हूं कि वह हमारी मदद करें।' 

 

 

बता दें कि बुलंदशहर में गौमांस मिलने को लेकर भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की मौत हो गई थी। इस मामले में कुछ आरोपी पकड़े जा चुके हैं। वहीं पुलिस पर हमला करने की जुर्म में जीतू फौजी पर भी FIR दर्ज की गई है। बताया जा रहा है कि आरोप लगने के बाद जीतू फौजी भाग गया था। जीतू की पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर के सोपोर में तैनात है। पुलिस के अनुसार कुछ आरोपियों ने यह भी कबूला है कि गोली जीतू फौजी ने चलाई थी। इसके बाद पुलिस और यूपी STF जम्मू कश्मीर पहुंची है। ऐसा माना जा रहा है कि रविवार को सेना जीतू को यूपी पुलिस को सौंप देगी।

खबरें और भी हैं...