दैनिक भास्कर हिंदी: J&K: सरकार का बड़ा फैसला, पुंछ और राजौरी में बनाए जाएंगे 400 बंकर

March 3rd, 2019

हाईलाइट

  • J&K: पाकिस्तान की गोलाबारी से निपटने के लिए सरकार का बड़ा कदम।
  • पुंछ और राजौरी जिलों में एक महीने के भीतर बनाए जाएंगे 400 बंकर।
  • प्रशासन ने अधिकारियों से बंकरों का तेजी से निर्माण करने के निर्देश दिए।

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में लगातार सीमापार से हो रही गोलाबारी से निपटने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे पुंछ और राजौरी जिले में नागरिकों की सुरक्षा के लिए 400 अतिरिक्त व्यक्तिगत बंकरों को बनाने की मंजूरी दी गई है। प्रशासन ने अधिकारियों से इन बंकरों का तेजी से निर्माण करने के निर्देश दिए हैं।

 


दरअसल पुलवामा आतंकी हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान सीमा पर तनाव बना हुआ है। पाकिस्तान लगातार सीजफायर उल्लंघन कर सीमावर्ती इलाकों को निशाना बना रहा है। इसके चलते सीमा पर नागरिकों की सुरक्षा के बंदोबस्त किए जा रहे हैं। पाकिस्तान की गोलाबारी के मद्देनजर सरकार ने बंकरों के निर्माण की मंजूरी दी है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को पुंछ और राजौरी जिलों में 400 अतिरिक्त बंकर बनाने की योजना को मंजूरी दी है। पिछले पांच दिनों के दौरान इन दोनों जिलों में पाकिस्तान की तरफ से भारी गोलाबारी की गई है। प्रशासन ने अधिकारियों को इन बंकरों का तेजी से निर्माण करने का निर्देश भी दिया। 


गोलाबारी के दौरान बंकर काफी प्रभावी

पुंछ में 200 और राजौरी में 200 अतिरिक्त व्यक्तिगत बंकर बनाए जाएंगे। इन बंकरों के निर्माण के लिए धनराशि ग्रामीण विकास विभाग के जरिए संबंधित उपायुक्तों को दिया जाएगा। सरकार के प्रवक्ता ने बताया, ये बंकर अगले एक महीने में बना दिए जाएंगे। स्थानीय लोगों के मुताबिक पाकिस्तान द्वारा सीमा पार से की जाने वाली गोलाबारी के दौरान बंकर काफी प्रभावी होते हैं। ये गोलाबारी के दौरान सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले नागरिकों को सुरक्षित स्थान मुहैया कराते हैं। वहीं गुज्जर नेता शमशेर हकला पूंछी ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तान की गोलाबारी में चार नागरिकों की मौत पर दुख जताया है।


गोलाबारी में कई नागरिकों की हो चुकी है मौत  

इसके साथ ही उन्होंने सरकार से सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले नागरिकों के लिए सुरक्षित कॉलोनियां बसाने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा, सीमा पार से होने वाली गोलाबारी की वजह से लोग मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। इसको रोकने के लिए ठोस कदम उठाए जाने चाहिए। गौरतलब है कि पाकिस्तान लंबे समय से सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है और रिहायशी इलाकों को भी निशाना बना रहा है। सीमा पार से की गई गोलाबारी में कई नागरिकों की मौत हो चुकी है।