comScore

छत्तीसगढ़ में भी माफ हुआ किसानों का कर्ज, धान की MSP भी बढ़ाई

December 18th, 2018 09:56 IST
छत्तीसगढ़ में भी माफ हुआ किसानों का कर्ज, धान की MSP भी बढ़ाई

हाईलाइट

  • छत्तीसगढ़ में भी माफ हुआ किसानों का कर्ज
  • भूपेश बघेल ने पहले ही दिन लिया किसान कर्जमाफी का फैसला
  • भूपेश सरकार ने मक्के की MSP भी बढ़ाई, झीरम घाटी हमले में SIT का गठन भी किया

डिजिटल डेस्क, रायपुर। मध्य प्रदेश की ही तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस सरकार ने पहले ही दिन किसानों का कर्ज माफ करने का फैसला ले लिया। यहां सीएम पद की शपथ लेने के तुरंत बाद भूपेश बघेल ने किसान हित में यह बड़ा फैसला लिया। भूपेश सरकार इसी के साथ किसानों के लिए एक और खुशखबरी लाई। सीएम भूपेश ने धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य को भी बढ़ाने का फैसला लिया। भूपेश सरकार ने झीरम घाटी में कांग्रेस नेताओं पर हुए हमले के मामले में भी SIT का गठन कर दिया है।

पहले दिन के फैसलों के बारे में बताते हुए भूपेश बघेल ने कहा, 'कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने घोषणा की थी कि सरकार बनने के 10 दिन के अंदर ही किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा और धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1700 रुपए से 2500 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया जाएगा। हमने सरकार बनाने के पहले दिन ही ये दो फैसले लिए हैं।'

झीरम घाटी में हुए हमले पर SIT गठन का फैसले के बारे में बताते हुए भूपेश बघेल ने कहा, 'हमारा तीसरा फैसला झीरम घाटी के सम्बंध में है। इस हमले में नंद कुमार पटेल जैसे कई दिग्गज नेताओं समेत कुल 29 लोगों को मार दिया गया था। षड़यंत्रकर्ता अब तक पकड़ाए नहीं गए हैं। इतिहास में राजनेताओं का कभी ऐसा नरसंहार देखने को नहीं मिला। साजिशकर्ताओं को पकड़ने के लिए हमने SIT का गठन कर दिया है।'

भूपेश बघेल द्वारा लिए गए किसान कर्जमाफी के फैसले से राज्य सरकार पर 6 हजार करोड़ से ज्यादा का बोझ आने का अनुमान है। इस फैसले से 16 लाख 65 हजार से अधिक किसान लाभान्वित होंगे। कर्ज माफी का फायदा राज्य में स्थित राष्ट्रीकृत और सहकारी बैंकों से कर्ज लेने वाले किसानों को ही मिलेगा। 

कमेंट करें
mdAbj
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।