comScore

अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से निकले तो चीन को होगा फायदा

June 06th, 2020 16:00 IST
 अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से निकले तो चीन को होगा फायदा

हाईलाइट

  • अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से निकले तो चीन को होगा फायदा

नई दिल्ली, 6 जून (आईएएनएस)। एक तरफ दुनिया अभी भी कोरोनावायरस महामारी से जूझ रही है, जिसकी उत्पत्ति चीन के वुहान शहर से हुई थी, वहीं दूसरी ओर चीन तेजी से अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों पर अपना कब्जा जमाता जा रहा है।

पिछले हफ्ते, अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ अपने संबंधों को समाप्त कर दिया। अपनी इस कार्रवाई को सही ठहराते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तर्क दिया कि डब्लूएचओ कोरोनावायरस महामारी पर बीजिंग को जिम्मेदार ठहराने में विफल रहा है, क्योंकि इस पर सारा नियंत्रण चीन का है।

ट्रंप ने कहा कि वाशिंगटन अन्य निकायों को धन पुनर्निर्देशित करेगा और अपने फैसले पर तभी पुनर्विचार करेगा, जब संगठन अगले एक महीने में महत्वपूर्ण सुधार कर लेगा। डब्ल्यूएचओ की फंडिंग के लिए अमेरिका सबसे बड़ा स्रोत है और इसके निकलने से संगठन के कमजोर होने की संभावना है।

इस कदम से यूरोपीय संघ में खलबली मच गई, जिसने ट्रंप को कोरोनावायरस महामारी के कारण चल रहे संकट के मद्देनजर अपने कदम पर पुनर्विचार करने की अपील की।

भारत के पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले ने न्यूयॉर्क टाइम्स में लिखे अपने एक लेख में तर्क दिया गया है कि जिस तरह डब्ल्यूएचओ जैसे संगठनों से अमेरिका अपना स्थान छोड़ रहा है, तो इसका मतलब कि वह चीन के हाथों में खेल रहा है, यानी यह चीन के लिए ही अवसर है।

गोखले ने लेख में कहा है कि अगर अमेरिका लड़खड़ाता है और दुनिया संकट में पड़ती है तो यह शी जिनपिंग के शासन को ही सूट करता है (फायदा पहुंचाता है)। उन्होंने कहा, क्योंकि यह चीन को डब्ल्यूएचओ और संयुक्त राष्ट्र जैसी संस्थाओं को संभालने का अवसर प्रदान करता है।

गोखले ने लिखा कि चीन अपनी प्रतिष्ठा को बचाने के लिए एक भयंकर लड़ाई के बीच है। उन्होंने कहा कि महामारी को लेकर चीन की भूमिका और हांगकांग पर नियंत्रण संबंधी उसके कदमों को लेकर चीनी अधिकारी फायरफाइटिंग मोड में हैं।

गोखले ने कहा, उनके ²ष्टिकोण के दो भाग हैं। पहला, चीन की उस कहानी को बेचना - कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में इसकी सफलता पर जोर देना। दूसरा, उन लोगों पर हमला करना, जो देश की छवि को धूमिल करना चाहते हैं।

एनवाईटी में प्रकाशित उनके विश्लेषण के अनुसार, चीन को वैश्विक दबाव से कोई खास परेशानी होने वाली नहीं है और वह इस तरह की स्थिति से पूरी तरह निपट सकता है।

इसके साथ ही गोखले ने अमेरिका को विश्व लीडर के रूप में अपनी भूमिका का त्याग नहीं करने का आग्रह भी किया।

कमेंट करें
9b7k3
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।