comScore

बजट पर बोले राहुल गांधी, कहा- रोज 17 रुपये देना किसान का अपमान

February 01st, 2019 16:49 IST
बजट पर बोले राहुल गांधी, कहा- रोज 17 रुपये देना किसान का अपमान

हाईलाइट

  • बजट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दी अपनी प्रतिक्रिया
  • ट्वीट करते हुए लिखा, किसानों को प्रतिदिन 17 रुपये देना उनका अपमान

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। संसद में वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने सरकार का अंतरिम बजट पेश कर दिया है। बजट को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट किया है कि, पांच साल की अक्षमता और अहंकार से किसान पूरी तरह बर्बाद हो चुके हैं। अब उनको प्रतिदिन 17 रुपये देना उनके द्वारा की गई मेहनत और उनकी हर मांग का अपमान है। राहुल गांधी के अलावा पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी बजट की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि अंतरिम वित्त मंत्री ने इतना लंबा अतंरिम बजट पेश कर लोगों के धैर्य की परीक्षा ली है।

किसानों की दी जाने वाली आर्थिक मदद के ऐलान पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सरकार की सरहाना की है। उन्होंने कहा कि सरकार 75 हजार करोड़ का बोझ सहन कर किसान भाइयों की मदद के लिए खड़ी रहेगी। शाह ने कहा कि यह समाज के हर वर्ग को राहत देने वाला बजट है. उन्होंने कहा कि किसान, मजदूर, मध्यम वर्ग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जो अपेक्षा थी वह इस बजट से पूरी होगी। शाह ने ट्वीट करते हुए लिखा, 2 हेक्टेयर से कम भूमि वाले गरीब किसानों के लिए ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना’ एक ऐतिहासिक पहल है। जिसके अंतर्गत देश के करीब 12 करोड़ किसानों को मोदी सरकार द्वारा 75000 करोड़ रुपए के बजट से प्रति वर्ष 6000 रुपए दिए जाऐंगे।

कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने कहा कि हमने पहले से ही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए गाइड लाइन जारी कर दी है और छोटे-सीमांत किसानों को अब हर साल 6 हजार रुपये दिए जाएंगे। 

कमेंट करें
qUCXM
कमेंट पढ़े
ANJANI KUMAR JHA February 01st, 2019 17:33 IST

Congress Party yadi 70 saal ke sasan main aisa kuch bhi kam karti to aaj kisano ke liye, berojgaron ke liye, nawjawano ke liye, mahilaon ke liye kuch bhi karti to shayad hamare desh ka yesa haal nahi hota, abhi BJP kuch soch rahi hai to unko mirchi lag rahi hai. Congress ne kam to bahut kiya hai is desh ke liye magar sab kagaz par hi simit raha.