भारतीय रॉकेट मिशन : उलटी गिनती आज शाम 5 बजे से होगा शुरू

June 29th, 2022

हाईलाइट

  • पीएसएलवी रॉकेट ने 1999 से 36 देशों के 345 विदेशी उपग्रहों को लॉन्च किया होगा

डिजिटल डेस्क,चेन्नई। सिंगापुर के तीन उपग्रहों को ले जाने वाले भारतीय रॉकेट पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (पीएसएलवी) के गुरुवार शाम के प्रक्षेपण के लिए 25 घंटे की उलटी गिनती बुधवार को शाम 5 बजे शुरू होगी।

मिशन का कोड नाम पीएसएलवी-सी 53/डीएस-ईओ।

भारतीय रॉकेट तीन उपग्रहों को ले जाएगा, 365 किलोग्राम डीएस-ईओ और 155 किलोग्राम न्यूसार, सिंगापुर से संबंधित उपग्रह और दक्षिण कोरिया के स्टारेक इनिशिएटिव द्वारा निर्मित। तीसरा उपग्रह नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (एनटीयू), सिंगापुर का 2.8 किलोग्राम का स्कूब-1 है।

यदि प्रक्षेपण सफल होता है, तो पीएसएलवी रॉकेट ने 1999 से 36 देशों के 345 विदेशी उपग्रहों को लॉन्च किया होगा।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (आईएसआरओ) के अनुसार, पीएसएलवी-सी53 रॉकेट के श्रीहरिकोटा रॉकेट पोर्ट के दूसरे लॉन्च पैड से शाम 6 बजे, 30 जून को लॉन्च होने की उम्मीद है।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो रॉकेट के चौथे और अंतिम चरण का उपयोग छह पेलोड के लिए कक्षीय मंच के रूप में करेगी, जिसमें दो भारतीय अंतरिक्ष स्टार्ट-अप, दिगंतारा और ध्रुव एयरोस्पेस शामिल हैं।

मिशन उपग्रहों के अलग होने के बाद, वैज्ञानिक पेलोड के लिए एक स्थिर मंच के रूप में लॉन्च वाहन के खर्च किए गए ऊपरी चरण के उपयोग को प्रदर्शित करने का प्रस्ताव करता है।

चार चरणों में खर्च करने योग्य, 44.4 मीटर लंबा पीएसएलवी-सी53 का उत्थापन द्रव्यमान लगभग 228 टन है और तीन उपग्रहों का कुल वजन 522.8 किलोग्राम है।

रॉकेट के चार चरण बारी-बारी से ठोस और तरल ईंधन से संचालित होंगे।

गुरुवार की उड़ान पीएसएलवी का 55वां मिशन और पीएसएलवी-कोर अलोन वैरिएंट का इस्तेमाल करने वाला 15वां मिशन होगा।

अपने सामान्य विन्यास में रॉकेट के पहले चरण में छह स्ट्रैप-ऑन मोटर्स होंगे। पीएसएलवी के कोर अलोन वैरिएंट में छह स्ट्रैप-ऑन मोटर्स नहीं होंगे, क्योंकि पेलोड का वजन कम है।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.