दैनिक भास्कर हिंदी: कोविड से जंग: यूपी पुलिस ने CM रिलीफ फंड में दिए 20 करोड़, कैदियों ने भी की 2.3 लाख की मदद

April 16th, 2020

हाईलाइट

  • कोरोना से जंग में मिली पुलिस और कैदियों की मदद
  • यूपी पुलिस ने सीएम रिलीफ फंड में 20 करोड़ रुपये का चेक दिया
  • 500 से भी अधिक कैदियों ने राहत कोष में दान किए 2.3 लाख रुपये

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। कोरोना वायरस (Coronavirus) से जंग को कारगर बनाने के लिए सीएम कोविड-19 केयर फंड (CM Relief Fund) में लगातार सहायता राशि जारी है। बुधवार को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पुलिस महानिदेशक एच.सी. अवस्थी ने अन्य अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) की तरफ से उनके फंड में 20 करोड़ रुपये का चेक दिया। वहीं पश्चिमी यूपी में कैदियों ने मरीजों की देखभाल करने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 2 लाख रुपये से ज्यादा की सहायता राशि दी है।

पुलिस ने एक दिन का वेतन दान किया
पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र अवस्थी ने बुधवार को अपने सहयोगी अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पुलिस विभाग की ओर से 20 करोड़ की धनराशि का चेक प्रदान किया। यूपी पुलिस ने अपने एक दिन का वेतन कोरोना से जंग के लिए दान किया है। यह राशि प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के मजबूत करने के उद्देश्य से कोविड फंड में जमा होगी।

मुरादाबाद: मेडिकल टीम और पुलिस पर हमला करने वाले 17 लोग गिरफ्तार, 7 महिलाएं भी शामिल

पुलिस के इस कदम को सीएम ने सराहा
मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश की पुलिस की इस कदम की तारीफ भी की और कहा कि लॉकडाउन के दौरान पुलिस की भूमिका काफी सराहनीय रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस और पीएसी की तरफ से कोविड केयर फंड के लिए 20 करोड़ से अधिक की धनराशि प्रदेशवासियों के उत्तम स्वास्थ्य के लिए प्रदान की गई है। उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश पुलिस व पीएसी के हमारे जवान अभी कोरोना वायरस के खिलाफ जो लड़ाई लड़ रहे हैं, वह काफी सराहनीय है। योगी ने आगे कहा कि 21 दिनों के लॉकडाउन तक इन लोगों ने भोजन और अन्य सहायता का काम किया। इससे पुलिस की एक नई छवि बनी है।

लॉकडाउन: एंबुलेंस में मरीज के बहाने 8 लोगों को यूपी ले जा रहा था ड्राइवर, फिर...

कैदियों ने भी मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया आर्थिक सहयोग
पश्चिमी यूपी के पांच जेलों में 500 से भी अधिक कैदियों ने कोरोना महामारी से जूझ रहे मरीजों की देखभाल करने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 2.3 लाख रुपये का सहयोग प्रदान किया है। जेल में सिलाई, बुनाई व बढ़ई इत्यादि का काम कर मिलने वाली मजदूरी से कैदियों ने ये पैसे जमा किए थे। ये कैदी मेरठ, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, गाजियाबाद और बागपत के जेलों से हैं।

पिज्जा डिलिवरी बॉय कोरोना पॉजिटिव, 72 परिवार किए गए होम क्वारंटीन

महानिदेशक (जेल प्रशासन और सुधार सेवाएं) आनंद कुमार ने कहा, यह महामारी के खिलाफ इस जंग में सरकार की मदद के लिए उनके संकल्प को दर्शाता है। कैदियों को जो वेतन मिलता है उसका उपयोग जेल कैंटीन से चीजों को खरीदने के लिए किया जाता है, लेकिन उन्होंने सरकारी कोष में इस रकम को दान में देने का निश्चय किया। गाजियाबाद के कैदियों ने अधिकतम 84,600, मेरठ के कैदियों ने 81,700 और मुजफ्फरनगर के कैदियों ने 28,000 रुपये जुटाए थे।

खबरें और भी हैं...