दैनिक भास्कर हिंदी: दिल्ली : हुक्मरान भी मान गये कोरोना में पुलिसिया सहयोग का लोहा (आईएएनएस विशेष)

May 11th, 2020

हाईलाइट

  • दिल्ली : हुक्मरान भी मान गये कोरोना में पुलिसिया सहयोग का लोहा (आईएएनएस विशेष)

नई दिल्ली, 11 मई (आईएएनएस)। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पुलिस के सिपाही अमित राणा की कोरोना की लड़ाई में शहादत और अब तक 25 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव पाये गये रणबांकुरों का त्याग खाली नहीं जा रहा है। इसी का जीता जागता उदाहरण है कि, केंद्रीय गृह मंत्री से लेकर तमाम हुकूमत और जनता-जनार्दन तक सब दिल्ली पुलिस की कोरोना से लड़ी जा रही लड़ाई का लोहा मान गये हैं। वही जनता-जनार्दन कोविड-19 से पहले तक पुलिस हमेशा जिसके निशाने पर होती थी।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी लॉकडाउन के मध्य में ही दिल्ली पुलिस के सहयोगी स्वभाव का लोहा मान चुके हैं। दोनो ही हुक्मरान ट्विटर हैंडल पर कोरोना से लड़ी जा रही लड़ाई में, दिल्ली पुलिस के सराहनीय कदमों की, खुले दिल से बयान कर चुके हैं। अब भारत सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और बिहार के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर ने निजी तौर पर दिल्ली पुलिस के सहयोग की सराहना की है। दोनो ही मंत्रियों ने बाहरी उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) गौरव शर्मा के नाम से पत्र लिखकर यह आभार खुले दिल और मन से जाहिर किया है। हांलांकि डीसीपी गौरव शर्मा इन दोनो ही प्रशंसा-पत्रों को पूरी दिल्ली पुलिस का सम्मान बताकर इस बारे में ज्यादा कुछ बात नहीं करना चाहते हैं।

आईएएनएस द्वारा पूछे जाने पर डीसीपी गौरव शर्मा ने सोमवार रात माना, हां दोनो जगह से पत्र मिले हैं। यह पत्र पूरे दिल्ली पुलिस महकमे के लिए प्रेरणास्रोत है। इस तरह के प्रोत्साहनों से ही कोरोना की लड़ाई में डटे हमारे जवानों में नई उर्जा का संचार हो रहा है। हम किसी पर कोई अहसान नहीं कर रहे हैं। यह खाकी की ड्यूटी और जिम्मेदारी का पार्ट है। हमारी कोशिश है कि, हम शत प्रतिशत कोरोना को हराने में हम अपना शत प्रतिशत दे सकें।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने अपने पत्र में लिखा है, कोविड-19 को मात देने के लिए हम सभी ²ढ़ संकल्प हैं। बाहरी उत्तरी दिल्ली जिले में पुलिस ने जैसे बेहतर तरीके से प्रवासी नागरिकों एवं श्रमिकों की सुविधाओं का ख्याल रखा है। जिस तरह इन लोगों से लॉकडाउन अनुपालन में सहयोग सुनिश्चित किया है. वो सब सराहनीय है।

दूसरा पत्र बिहार के मंत्री राणा रणधीर द्वारा भेजा गया है. 11 मई 2020 यानि सोमवार को ही लिखे गये इस पत्र में भी उत्तर बाहरी जिला पुलिस के सहयोगी और मानवीय रवैये का ही जिक्र है। आईएएनएस के पास मौजूद पत्र में, आकस्मिक हालातों में उत्तर बाहरी दिल्ली जिला पुलिस ने जिस तरह बिहार के चार लोगों की तत्काल मदद की, उसका जिक्र है। राणा रणधीर ने पत्र में साफ साफ स्वीकारा है कि अगर, बाहरी उत्तर जिला पुलिस त्वतरित और बाजिव कदम न उठाती तो दिल्ली में भटक रहे बिहार के ये चारों लोग मुसीबत में फंस जाते। इस मुसीबत से इन चार लोगों को निकालने का पूरा पूरा श्रेय बिहार के मंत्री ने जिला पुलिस को ही दिया है।

बिहार के मंत्री द्वारा लिखे गये पत्र के बारे में छानबीन करने पर आईएएनएस को पता चला कि, बिहार से कुछ लोग इलाज कराने के लिए दिल्ली आये थे। अचानक लॉकडाउन की घोषणा हो गयी। किसी तरह से यह मामला बाहरी उत्तरी जिला डीसीपी गौरव शर्मा तक पहुंचा। डीसीपी ने वक्त गंवाये बिना चारों परेशान हाल लोगों को तुरंत खाने पीने ठहरने का इंतजाम कराया। साथ ही उन चारों के मन मुताबिक उन्हें तुरंत, कर्फ्यू पास इत्यादि जारी करके दिल्ली से बिहार पहुंचवाने का भी इंतजाम कराया।