comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

दिल्ली हिंसा: पुलिस का बड़ा खुलासा- धर्म पता लगाने दंगाइयों ने किया था अंकित शर्मा को निर्वस्त्र

दिल्ली हिंसा: पुलिस का बड़ा खुलासा- धर्म पता लगाने दंगाइयों ने किया था अंकित शर्मा को निर्वस्त्र

हाईलाइट

  • अंकित शर्मा की हत्या मामले में सलमान गिरफ्तार
  • दो युवक हो गए भागने में कामयाब
  • मारने से पहले अंकित शर्मा को किया था निर्वस्त्र

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा (Ankit Sharma) की हत्या के मामले में हसीन उर्फ सलमान उर्फ मुल्ला उर्फ नन्हें को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने दावा किया है कि सलमान ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंकित की हत्या से पहले उसे निर्वस्त्र करके धर्म को पुख्ता किया था। फिलहाल पुलिस उसके अन्य साथियों को तलाश रही है। 

दो अन्य हिंदू युवक भागने में हो गए कामयाब
दंगाईयों ने अंकित शर्मा के साथ दो अन्य हिंदू युवकों को भी पकड़ लिया था। दोनों किसी तरह भागने में कामयाब हो गए थे। अंकित के अकेले पड़ जाने पर दंगाईयों ने बेरहमी से उसकी हत्या कर दी। उसके शव को पहले घसीटा फिर डंडे से उठाकर शव को गंदे नाले में फेंकने की कोशिश की। डंडे से नहीं उठने पर कुछ लोगों ने मिलकर शव को लोहे के तार की जाली से ऊपर नाले में फेंक दिया। 

Delhi Police Press Conference: हिंसा पर पुलिस का दावा- 712 FIR और 200 से अधिक आरोपी गिरफ्तार

ताहिर हुसैन के घर से फेंके थे बम
सलमान ने खुलासा किया है कि 24 फरवरी को चांदबाग गया था। जहां पर उसने आप के निलंबित पार्षद तारिक हुसैन के घर से पथराव और पेट्रोल बम लोगों पर फेंके थे। अंकित शर्मा की हत्या के बाद आरोपी हसीन ने अपने भाई और भाभी को कॉल भी किया था। पुलिस के अनुसार उसने हत्या की जानकारी अपने परिवार को भी दी थी। 

दिल्ली हिंसा: हिरासत में लिया गया ताहिर हुसैन का भाई शाह आलम, चांदबाग में हिंसा आरोप

PFI अध्यक्ष और सचिव गिरफ्तार
इससे पहले गुरुवार को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष परवेज (Pervez) और सचिव इलियास (Ilyas) को गिरफ्तार कर लिया है। इन दोनों पर दिल्ली हिंसा (Delhi violence) भड़काने का आरोप है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, यह गिरफ्तारी शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन में दोनों का लिंक मिलने पर की गई है। बता दें कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर फंडिंग के मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच पिछले काफी समय से जांच कर रही है।


 

कमेंट करें
82QX5
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।