दैनिक भास्कर हिंदी: अपने ही स्कूल के मिड-डे-मील में 7वीं की छात्रा ने मिलाया जहर

July 19th, 2018

हाईलाइट

  • पुलिस ने स्कूल की रसोई को सील कर दिया है।
  • छात्रा परिषदीय जूनियर स्कूल में पढ़ती है।
  • घटना देवरिया के बनकटा थाना क्षेत्र की है।

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। अपने ही स्कूल के मिड डे मिल में जहर मिलाने के आरोप में पुलिस ने 7वीं कक्षा की एक छात्रा को उसकी मां के साथ गिरफ्तार किया है। छात्रा पर आरोप है कि उसने अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए बच्चों के खाने में जहर मिलाया। पुलिस ने स्कूल की रसोई को सील कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक घटना देवरिया के बनकटा थाना क्षेत्र के परिषदीय जूनियर हाई स्कूल की है।

 

दाल की बाल्टी में मिलाया जहरीला पदार्थ
रसोई में काम करने वाली राधिका बच्चों को मिड-डे-मील परोस रही थी। राधिका ने एक छात्रा को किचन में घुसकर दाल की बाल्टी में जहरीला पदार्थ मिलाते देखा। राधिका ने प्रधानाध्यापक भृगुनाथ प्रसाद को जानकारी दी। भृगुनाथ ने तत्काल रसोई घर का ताला बंद किया और राधिका को किसी भी बच्चे को भोजन न देने के लिए कहा।

 

महिलाओं ने छात्रा की मां को पीटा
मिड-डे-मील में जहर मिलाने की खबर फैलते ही स्कूल परिसर में भीड़ इकट्ठा हो गई। भीड़ ने आरोपी छात्रा की मां से मारपीट की। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि छात्रा ने अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए खाने में जहर मिलाया है।

 

दाल से आ रही थी कीटनाशक की गंध
खाने में जहर मिलाने की सूचना जब प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंची तो हड़कंप मच गया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनकटा से डॉक्टर बीएन यादव तत्काल अपनी टीम के साथ स्कूल पहुंच गए। उन्होंने सभी छात्रों का चेकअप किया। डॉ. यादव के मुताबिक सभी बच्चों की तबियत ठीक है। स्कूल पहुंची खाद्य विभाग की टीम ने खाने की जांच की। खाद्य सुरक्षा अधिकारी अजीत तिवारी ने कहा कि दाल में जहर मिलाया गया था। क्योंकि दाल का रंग बदल गया और कीटनाशक दवा की गंध भी आ रही थ

 

छात्रा के खिलाफ मामला दर्ज
खाद्य अधिकारी अजीत तिवारी ने बताया कि भोजन का नमूना झांसी की लैब में भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद पुष्टि होगी कि कौन सा जहरीला पदार्थ मिलाया गया था। पुलिस ने रसोइया की शिकायत पर छात्रा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

 

इसलिए मिलाया जहर
स्कूल के एक बच्चे ने कुछ दिन पहले आरोपी छात्रा के भाई की ईंट मारकर हत्या कर दी थी। आरोपी बच्चा इस समय बाल सुधारगृह में है। छात्रा की मां का कहना है कि कुछ लोग जानबूझकर उनकी बेटी को फंसाना चाहते हैं, इसलिए उस पर झूठे आरोप लगाए गए हैं।