दैनिक भास्कर हिंदी: B'day: भोपाल से ताल्लुक रखते हैं रघुराम राजन, बीवी के डर से हैं राजनीति से दूर

February 3rd, 2020

हाईलाइट

  • भोपाल में हुआ था पूर्व गवर्नर राजन का जन्म
  • साल 2013 से 2016 तक रहे आरबीआई गवर्नर

डिजिटल डेस्क, मुम्बई। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन का आज जन्मदिन है। उनका जन्म 3 फरवरी 1963 को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में एक तमिल ब्राम्हण परिवार में हुआ था। उनके पिता इंटेलिजेंस ब्यूरो में भारत में एक वरिष्ठ अधिकारी थे। रघुराम भी आईआईटी दिल्ली से ग्रैजुएट हैं। रघुराम राजन सितंबर 2013 से सितंबर 2016 तक बतौर आरबीआई गवर्नर के रूप में अपना कार्यकाल पूरा किया। आज राजन के जन्मदिन पर जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें।

पर्सनल लाइफ
रघुराम राजन की पर्सनल लाइफ की बात की जाए तो राजन की माता का नाम मयथिली और पिता का नाम आर गोविंद राजन है। साल 1966 में ​उनके पिता का ट्रांसफर इंडोनेशिया में हो गया। इस वजह से उनके परिवार को बाहर जाना पड़ा। राजन की स्कूली पढाई दिल्ली पब्लिक स्कूल से हुई। उनका एक भाई और बहन भी है। स्कूली शिक्षा पूरी होने के बाद राजन ने आईआईटी दिल्ली से ग्रैजुएशन किया। उन्होंने अपनी कॉलेज फ्रेंड राधिका पुरी से शादी की। राधिका और राजन की मुलाकात आईआईएम अहमदाबाद में पढाई के दौरान हुई। फिलहाल राधिका यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो लॉ स्कूल में पढ़ाती हैं। राजन के दो बच्चे हैं। 

जब बीवी ने कहा छोड़कर चली जाउंगी...
जिस वक्त राजन आरबीआई के गवर्नर बनें। उस वक्त उनके काम से हर कोई प्रभावित था। यह तक कहा जा रहा था कि राजन राजनीति में भी आ सकते हैं। जब राजन से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर में राजनीति में आया तो मेरी बीवी मुझे छोड़ कर चली जाएंगी। मेरा प्राइमरी काम पढ़ाना है। मुझे यही काम पसंद है।

प्रोफेशनल लाइफ
मनमोहन सरकार के कार्यकाल में राजन सबसे कम उम्र के आरबीआई गर्वनर रह चुके हैं। उन्हें साल 2003 से दिसंबर 2006 तक अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में सबसे कम उम्र के आर्थिक एडवाइजर और अनुसंधान निदेशक (मुख्य अर्थशास्त्री) के रूप में नियुक्त किया गया था। 5 सितंबर, 2013 को राजन ने डुवुरी सुब्बाराव को सफल करते हुए, भारत की केंद्रीय बैंकिंग संस्था की कमान संभाली।

संकट के समय देश को बचाया
जब देश की अर्थव्यवस्था खतरे में थी, तब राजन ने देश की जीडीपी को अपने प्रयासों से उपर उठाया। राजन को साल 2011 में उनके साथियों द्वारा 'संकट के बाद के विश्व के लिए सबसे महत्वपूर्ण विचारों' के अर्थशास्त्री के रूप में स्थान दिया था। उन्हें RBI के तत्कालीन गवर्नर के रूप में और मुद्रास्फीति पर अंकुश लगाने के लिए प्राथमिक ध्यान देने के लिए जाना जाता है। उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई अथक प्रयास किए हैं। साल 2013 से 2016 तक, जब वे गवर्नर रहे। तब तक उन्होंने देश की आर्थिक व्यवस्था बनाएं रखने के लिए कई प्रभावशाली निर्णय लिए।

नोटबंदी के वक्त बोले राजन
साल 2016 में जब नोटबंदी हुई, उस उक्त राजन ने इसे देश के लिए खतरा बताया। उन्होंने कहा कि गलत तरीके से GST को लागू करना भी आर्थिक मंदी की बड़ी वजह है। मोदी सरकार को ग्रोथ बढ़ाने पर फोकस करना चाहिए।

अवॉर्ड
राजन द्वारा किए गए कार्य के लिए उन्हें लंदन स्थित फाइनेंस मैगजीन सेंट्रल बैंकिंग से 2014 के प्रतिष्ठित गवर्नर ऑफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया। कई संस्‍थानों ने उन्‍हें सेंट्रल बैंक ऑफ द ईयर के तमगे से नवाजा। इसके अलावा भी उन्हें कई सम्मान दिए जा चुके हैं। वे अपने काल में प्रभावशाली गर्वनर में से एक थे।